बसपा राज में ईजाद हुई घोटालों भ्रष्टाचार की तकनीक : पाण्डेय

लखनऊ: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्र नाथ पांडेय ने कहा कि घोटालों और भ्रष्टाचार की नई तकनीक बसपा शासन में ही ईजाद हुई थी। बसपा सुप्रीमो कानून व्यवस्था की दुहाई दे रही हैं अगर उनके शासन में कानून का राज होता तो उन्हें स्थायी राजनीतिक वनवास पर न जाना पड़ता।बसपा प्रमुख के बयान पर पलटवार करते हुए डा. पाण्डेय ने कहा कि जिस तरह मायावती मोटी रकम लेकर टिकट बेचती है वैसे ही उनकी सरकार में कानून सिर्फ उसका साथ देता था जिसके पास मोटी रकम चुकाने की हैसियत थी।

बसपा और सपा शासन ने युवाओं, बेरोजगारों को लूटने और छलने का काम किया। अधिकांश नौकनियां, भ्रष्टाचार की भेंट चढ गई, जिनमें से अधिकांश अभी कोर्ट की जद में है। बसपा सुप्रीमो ने अपने शासन में अंहकार और दम्भ की पराकाष्ठाकाएं पार की। हुक्मरान बन कर तानाशाही से 5 वर्षो तक प्रदेश को जमकर लूटा, अवैध खनन का धंधा बसपा सरकार की देन है जिसे सपा ने आगे बढ़ाया। एनआरएचएम घोटाला, स्मारक घोटाला, बहिन जी के शासन के अविस्मृत सत्य है।

महापुरूषों की प्रतिमाओं तक को घोटालेबाजी में नहीं बख्शा। जेलों के अंदर तक राजनीतिक संरक्षण में हत्याओं के दौर चले, वहीं बसपा आज मोदी सरकार और योगी सरकार की जनकल्याणकरी योजनाओं और नीतियों पर उंगली उठा रही है? जबकि सूबे को विकास पथ पर मोदी-योगी सरकार लायी। डा.पांडेय ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रहित में नोटबंदी का कठोर निर्णय लिया, जिसे जनता ने स्वीकार किया। बसपा-सपा-कांग्रेस सहित तमाम विपक्ष ने नोटबंदी का जोर-शोर से विरोध किया। 2017 के उत्तर प्रदेश की परिणामों ने नोटबंदी का विरोध करने वालों की वोटबंदी कर दी। मोदी प्रधान सेवक के रूप में देश के कल्याण के लिए कठोर कदम उठाने से भी हिचक नहीं रहे, अब जीएसटी का निर्णय करके देश को आर्थिक सुधार के मार्ग पर आगे ले चले है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper