बसपा सुप्रीमों का बंगला बचाने के लिए मुख्यमंत्री से मिले सतीश चन्द्र

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती का बंगला बचाने के लिए पार्टी के महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकत की है। योगी से मिलकर लौटे सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि उनकी मुख्यमंत्री के साथ यादगार मुलाकात हुई। मिश्र ने बताया कि 13 ए माल एवेन्यू काशीराम यादगार स्थल को लेकर हमारी मुख्यमंत्री से भेंट हुई है।

उन्होंने यह बंगला वापस न लेने के लिए योगी को प्रत्यावेदन सौंपा है। सांसद सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि 13 ए माल एवेन्यू कांशीराम की याद में बनाया गया था। उसके बाद यह बंगला मायावती को अलॉट हुआ था। 13 जनवरी 2011 को कैबिनेट में निर्णय लिया गया था की पूरा बंगला कांशीराम यादगार स्थल के नाम से रहेगा और मायावती उसके छोटे से भाग में रहेंगी।

सतीश चन्द्र ने कहा कि कांशीराम जी यादगार स्थल को लेकर हमने योगी जी से बात की है। केवल दो कमरे के परिसर में मायावती रहती हैं। बाकी भाग यादगार स्थल है। 13 जनवरी 2011 को कैबिनेट के जरिए ये फैसला हुआ था कि वो बंगला मान्यवर कांशीराम यादगार स्थल बनाया गया था, उन दो कमरों को छोड़कर। ये भी फैसला हुआ था कि उन दो कमरों को जब मायावती छोड़ेंगी वो पूरा बंगला यादगार स्थल बन जाएगा।

उन्होंने कहा कि 6 मॉल एवेन्यू मायावती को अलॉट हुआ था, जिसे खाली करने का कोई नोटिस नहीं दिया गया है। जब तक आदेश स्पष्ट नहीं होता वो बंगले में मायावती को रहने दिया जाए। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री बंगला बचाने के लिए जुगत लगा रहे हैं। सपा संरक्षक मुलायम और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, एनडी तिवारी के बाद बसपा मुखिया मायावती ने भी नया दांव चला है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper