बहुत गरीबी में बीता बचपन, पिता मजदूरी कर चलाते थे खर्चा, अब बेटा करता है एक फिल्म से 50 लाख की कमाई

मुंबई: सिनेमा जगत में हर कोई अपना नाम कमाना चाहता है, लेकिन यहां अपनी पहचान बनाना बहुत ही मुश्किल है. फिल्म इंडस्ट्री में कई ऐसे सितारे हैं जिनका बचपन बहुत ही गरीबी में बीता. आज हम आपको एक ऐसे अभिनेता के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका बचपन बहुत ही गरीबी में बीता है. इस अभिनेता के पिता घर का खर्च चलाने के लिए मजदूरी करते थे. लेकिन ये अभिनेता एक फिल्म से ही लाखों की कमाई कर लेता है.

हम बात कर रहे हैं भोजपुरी के सुपरस्टार निरहुआ की. गाजीपुर में जन्मे निरहुआ का बचपन बहुत ही गरीबी में बीता. निरहुआ गाजीपुर के छोटे से गांव टंडवा से ताल्लुक रखते हैं. लेकिन अब वह भोजपुरी के जाने-माने सितारे बन चुके हैं. निरहुआ के परिवार में 7 लोग थे. निरहुआ के पिता मुश्किल से ही अपने परिवार का खर्च चला पाते थे. 7 सदस्यों के बीच परिवार का खर्च बहुत ही मुश्किल से चलता था. ऐसे में निरहुआ के पिता अपने दोनों बेटों के साथ कोलकाता आ गए. वहां वे मजदूरी करने लगे. इस दौरान उन्होंने अपनी पत्नी और तीन बेटियों को गांव में ही छोड़ दिया.

निरहुआ के पिता कुमार यादव कोलकाता के बेलघरिया के अगरपाड़ा की झोपड़पट्टी में अपने दोनों बेटों के साथ रहने लगे. निरहुआ ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई कोलकाता में ही की. निरहुआ के पिता ने गरीबी में भी अपने बेटे को पढ़ाया. उन्होंने कोलकाता के कॉलेज से निरहुआ को बीकॉम की पढ़ाई करवाई. लेकिन निरहुआ को संगीत में काफी रूचि थी. निरहुआ के पिता चाहते थे कि उनका बेटा नौकरी करें. लेकिन निरहुआ एक्टर बनना चाहते थे.

पढ़ाई करने के बाद निरहुआ वापस अपने गांव आ गए और संगीत के रियाज में जुट गए. इसके बाद निरहुआ का एल्बम निरहुआ सटल रहे आया, जो काफी हिट रहा. इसके बाद निरहुआ ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. अब तक निरहुआ 80 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं. निरहुआ के पास कभी साइकिल तक नहीं थी, लेकिन अब वे एक फिल्म के लिए तकरीबन 50 लाख रुपए की फीस लेते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper