बाइक में चौड़े टायर लगवाने से पहले जान लें इसके फायदे-नुकसान

नई दिल्ली: गाड़ियों को कस्टमाइज कराने का अपना ही मजा और जब बात बाइक या मोटरसाइकिल की होती है तो लोग अपनी बाइक में सबसे पहले 2 काम करते हैं बुलेट हैं तो उसकी आवाज बढ़ान और बाइक के टायर बदलना। कितनी भी सीसी की बाइक हो युवाओं को अपनी बाइक में मोटे-मोटे टायर लगवाने का बड़ा क्रेज होता है। ऐसा करने पर बाइक तो थोड़ी पॉवरफुल लगने लगती है लेकिन असल में उसकी पॉवर पर कैसा असर पड़ता है ये जानने की बात है।
जी हां बाइक में टायर बदलवाना बाइक को कस्टमाइज कराने में शामिल होता है और इसीलिए हम आपको आज इसके फायदे और नुकसान बताएंगे । यानि अगर आप अपनी बाइक में ये टायर लगवाने जा रहे हैं तो ये आर्टिकल आपके बेहद काम आ सकता है।
चौड़े टायर लगवाने के फायदे-नुकसान-
छोटे इंजन वाली बाइक्स में बड़े और चौड़े टायर्स लगवाने से इंजन को ज्यादा फोर्स लगानी पड़ती है। इसीलिए अगर ऐसी बाइक में मोटे टायर लगवाए जाते हैं तो इसका असर बाइक की परफार्मेंस पर देखने को मिल जाता है। बल्कि ऐसी हालत में बाइक का माइलेज भी नकारात्मक रूप से प्रभावित होता है।
वहीं अगर आपकी बाइक 100cc या इससे ज्यादा पॉवर की है और उसमें आप चौड़ा टायर लगवाते हैं तो उससे बाइक की रोड पर ग्रिप अच्छी तो बनेगी लेकिन इससे बाइक की माइलेज पर असर पड़ता है।
स्पोर्टी लुक- चौड़े टायर लगवाने से इंजन को ताकत तो ज्यादा लगानी पड़ती है लेकिन इससे राइडिंग क्वालिटी और लुक दोनों पर अच्छा असर पड़ता है।
एक्पर्ट्स मानते हैं गलत-
बाइक में मोटे टायर लगवाने की सलाह से एक्सपर्ट इंकार करते हैं। ज्यादातर कंपनियां अपसाइजिंग की सलाह नहीं देतीं क्योकिं गाड़ी में ऑरिजिनली उसी साइज के टायर लगाए जाते हैं जो उसके लिए परफेक्ट हों।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper