बाढ़ के कारण एक दर्जन गांवों का जिला मुख्यालय से टूटा संपर्क

गोपालगंज। नेपाल में भारी बारिश के बाद गंडक नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। गंडक के जलस्तर के बढ़ने से गोपालगंज के निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। यहां बाढ़ के पानी से करीब एक दर्जन गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है। गोपालगंज के जिन इलाकों में बाढ़ जैसे हालात हैं उसमें सदर प्रखंड का रामनगर, मेहंदिया, मकसूदपुर, जगरीटोला सहित एक दर्जन गांव शामिल हैं। इन गांवों में जाने वाले रास्ते पानी में डूब गए हैं। लोग प्राइवेट नाव की सवारी कर रहे हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक अभी तक सरकार या जिला प्रशासन के द्वारा इस इलाके में किसी भी तरह की सरकारी नाव की कोई व्यवस्था नहीं की गयी है।

रामनगर गांव के रहने वाले किसान देवेन्द्र सिंह के मुताबिक अभी जगरीटोला, खाप मसूदपुर, रामनगर , मेहंदिया, कटघरवा, पतहरा जैसे गांव बाढ़ से घिर गए हैं। यहां एक दो प्राइवेट नाव का संचालन किया जा रहा है, लेकिन जिला प्रशासन द्वारा अभी एक भी नाव की व्यवस्था नहीं की गयी है जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है। गोपालगंज सदर प्रखंड के मलाहीटोला और मंझरिया के बीच करीब साढ़े सोलह करोड़ रूपये की लागत से पायलट चैनल का निर्माण किया गया था।

साढ़े चार किलोमीटर लम्बे इस पायलट के उद्घाटन के बाद दावा किया गया था की यहां सदर प्रखंड के नीचले इलाके में गंडक से बाढ़ जैसे हालत नहीं पैदा होंगे और गंडक की धारा भी मुख्य धारा में मुड़ जाएगी, लेकिन ऐसा अबतक दिख नहीं रहा है। मामले में सदर सीओ विजय प्रताप सिंह ने कहा की दो नावों का परिचालन शुरू कर दिया गया है। जिन इलाकों में बाढ़ जैसे हालत हैं वो गंडक के जलस्तर बढ़ने से नहीं बल्कि वाटर लॉगिंग की वजह से हो रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper