बाढ़ पीड़ितों की मदद में आगे आएं सपा कार्यकर्ता: अखिलेश

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिये आगे आएं और उनकी पूरी मदद करें। बाढ़ग्रस्त इलाकों में फंसे लोगों तक खाद्य सामाग्री, वस्त्र, टार्च, पशुओं का चारा और बाढ़ पीड़ितों के आश्रय स्थलों पर तिरपाल की व्यवस्था करें। बाढ़ पीड़ितों के बच्चों के लिए दूध की व्यवस्था की जाए। बाढ़ग्रस्त इलाकों में फंसे लोगों को निकालने के प्रयास भी किए जाएं। बाढ़ के दिनों में बीमारियां भी खूब फैलती हैं इसलिए दवाइयों और चिकित्सा का भी इंतजाम करने में मदद करें।

यादव ने कहा कि प्रदेश में शारदा, घाघरा, सरयू तथा राप्ती नदी का उफान अभी थमा नहीं है। सैकड़ों गांव जलमग्न हैं और बड़ी संख्या में लोग बाढ़ में फंसे हैं। पशुओं के लिए चारे का संकट है। बाढ़ग्रस्त इलाकों में बच्चों के लिए दूध की किल्लत है। राहत सामग्री पहुंचाने की व्यवस्था लचर है। लोग खुली छत के नीचे भगवान भरोसे अपनी जिन्दगी के कठिन दिन काटने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि बाढ़ संकट से निपटने के लिए सपा सरकार ने जो तैयारियां की थी उसका इस सरकार ने ध्यान ही नहीं दिया। बाढ़ से बचाव में लापरवाही बरतने का ही फल है कि प्रदेशवासी ये बुरा समय देख रहे हैं। यदि शासन-प्रशासन सतर्क होता तो बाढ़ से इतनी क्षति नहीं होती। ऐसा लगता है कि भाजपा सरकार बस अपने दिन काट रही है।

उसका प्रदेश के विकास का कोई विजन नहीं है इसलिए वह शिलान्यास का शिलान्यास और उद्घाटन का उद्घाटन करने के काम में ही पूरी ताकत से लगी हुई है। जनता भी वर्ष 2019 में भाजपा का हिसाब किताब करने का इंतजार कर रही है। उन्होंने कहा कि केरल राज्य बाढ़ की विभीषिका से बुरी तरह त्रस्त है। लगभग चार सौ से ज्यादा जिन्दगी बाढ़ की चपेट में आकर खो गयीं। केरल में जल पल्रय जैसी स्थिति दिल दहलाने वाली है। लाखों लोग बेघर हो गए हैं। ट्रेन, मेट्रो, हवाई सेवाएं बाधित हैं। इस आपदा में केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए मैंने और मेरी पत्नी डिम्पल यादव ने अपनी ओर से मदद भेजना तय किया हैं। उम्मीद करता हूं कि दूसरे लोग भी व्यक्तिगत रूप से यथासम्भव मदद करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper