बाबर के बंशज प्रिंस याकूब ने की राम मंदिर की वकालत

दिल्ली ब्यूरो: बाबर और बहादुर शाह जफर के वंशज प्रिंस या‍कूब हबीबुद्दीन तुसी ने अयोध्‍या में भगवान श्रीराम मंदिर के निर्माण की वकालत की है। उनका कहना है कि इस मुद्ददे पर हिन्‍दू-मुसलमान का कोई विवाद नहीं है। राजनेता इस पर बेवजह राजनीति कर रहे हैं। वे राष्‍ट्रपति के पास जाकर अयोध्‍या में भगवान राम के मंदिर निर्माण की वकालत करेंगे। उन्‍होंने कहा कि वे कल दिल्‍ली से चक्रपाणि महाराज के नेतृत्‍व में रथयात्रा लेकर विभिन्‍न शहरों से होते हुए अयोध्‍या पहुंचेंगे और वहां रामलला के दर्शन कर मंदिर निर्माण की बात पेश करेंगे। उन्‍होंने कहा कि अयोध्‍या में भगवान श्रीराम का मंदिर बनेगा, तो पहली सोने की ईंट वे रखेंगे।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ओएस 5973 सिटी सिविल कोर्ट हैदराबाद 2002 में यह कंफर्म कर दिया और हमें डिग्री दे दिए कि हम बाबर के वंशज हैं। कोर्ट ने डॉक्यूमेंट के एविडेंस में इसे कंफर्म किया है। किसी के बोलने और नहीं बोलने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। मुगलों के वक्‍फ की प्रॉपर्टी के हम मुतवल्‍ली है। हमारे पास सारे पेपर भी मौजूद हैं। हमने 2 साल पहले राष्ट्रपति से मुलाकात भी की थी। इस बार जो मुलाकात हम करने वाले हैं। राम मंदिर के सिलसिले में हमने जो टाइम मांगा है। जैसे ही हमें टाइम मिलेगा ये पिटीशन हमारी तरफ से उन्हें हैंड वर्क कर दी जाएगी। प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया को पावर होता है कि वह सुप्रीम कोर्ट को डायरेक्शन दे सकता है। नहीं तो इस मुद्दे को पार्लियामेंट में ट्रांसफर कर सकता है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर में हम संदेश नहीं चुनौती देने आए हैं। क्योंकि हम 2 साल से समय मांग रहे हैं उनके हम बड़े फलोवर भी हैं। देश और राष्ट्र के लिए वे बहुत अच्छा कर रहे हैं। योगी जी ने इसके पहले बयान दिया था कि वहां पर मंदिर भगवान श्री राम बनाएंगे और फिर कहा कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है। तो मैं कह रहा हूं कि मैं सुप्रीम कोर्ट में एनओसी देने के लिए तैयार हूं। उनका कहना है कि ये बाबर की वसीयत से साबित कर देती है कि मंदिर को मीर बाकी ने तोड़ा था। मंदिर वहां पर बन जाता है, तो लोगों की आस्था भी कायम रहेगी। वे राष्ट्रपति से मांग करेंगे कि 240 मस्जिद बंद पड़ी है, उसे खुलवा दें. मुसलमान उसमें नमाज पढ़ेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper