बिहार-असम में बाढ़ से हाहाकार, हिमाचल-मुंबई में भारी बारिश का अलर्ट

नई दिल्ली: दिल्ली में मॉनसून के समय से पहुंचने के बाद भी लोगों को बारिश का इंतजार है. यहां अभी तक 40 फीसदी कम बारिश हुई है. हालांकि, उत्तर, पूर्वी और तटीय भारत के कई राज्यों में मॉनसून अपने रफ्तार में है. इन इलाकों में रविवार को कई जगह भारी बारिश हुई. पिछले कुछ दिनों से राजस्थान में भी मॉनसून कमजोर रहा है लेकिन मंगलवार से यहां इसके जोर पकड़ने की उम्मीद है. एक जून से 11 जुलाई के बीच पश्चिमी राजस्थान में सामान्य से 8 फीसदी कम बारिश हुई जबकि राज्य के पूर्वी हिस्से में 13 फीसदी कम बारिश हुई है. हरियाणा और पंजाब के कई इलाकों में रविवार को बारिश हुई.

हिमाचल प्रदेश में अधिकारियों ने 13 जुलाई से 16 जुलाई के बीच भारी बारिश होने की कम खतरनाक चेतावनी येलो वार्निंग जारी की है. मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि मॉनसून का ट्रफ (द्रोणी) उत्तर की तरफ हो जाने के कारण दिल्ली में अगले सात दिनों तक कम बारिश का अनुमान है.

मुंबई भारी बारिश की चेतावनी
सोमवार यानी आज मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है. विभाग के मुताबिक यहां 16 जुलाई तक अच्छी बारिश जारी रह सकती है. इसके अलावा दक्षिण पश्चिम और पश्चिम मध्य अरब सागर में तेज हवा चलने का अनुमान जताया है. इस खतरे को देखते हुए मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि वे समुद्र में न जाएं.

आईएमडी के दिल्ली क्षेत्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया, ‘सामान्य तौर पर इस समय बंगाल की खाड़ी में मजबूत मौसम प्रणाली बनती है जो उत्तर-पश्चिम भारत की तरफ जाती है और मॉनसून की सक्रियता बढ़ती है.’

दिल्ली में जुलाई में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई. देश में मॉनसून के एक जून को दस्तक देने के बाद से महानगर में 79.7 मिमी बारिश हुई है जबकि सामान्य तौर पर 132.6 मिमी बारिश होती है. बता दें कि दिल्ली में मॉनसून सामान्य तारीख से दो दिन पहले 25 पहुंचा था.

असम, बंगाल, बिहार और यूपी में क्यों हो रही बारिश?
स्काईमेट वेदर रिपोर्ट के मुताबिक मॉनसून ट्रफ हिमालय के पहाड़ी क्षेत्रों के करीब है और समुद्रतटीय ट्रफ गोवा से केरल तट तक है जिससे उत्तर-पूर्वी राज्यों, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तरप्रदेश के कुछ हिस्से, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और गोवा में बारिश हो रही है.

उत्तर बंगाल में लगातार बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं और दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी तथा कूचबिहार के निचले इलाकों में रविवार को पानी भर गया. मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों में और बारिश होने की चेतावनी जारी की है.

मौसम विभाग ने बताया कि दार्जिलिंग जिले के सिलीगुड़ी में रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक पिछले 24 घंटे में 243 मिलीमीटर बारिश हुई है. इस दौरान कूच बिहार और जलपाईगुड़ी जिला मुख्यालयों में क्रमशः 162 और 145 मिमी बारिश दर्ज की गई है.

असम में बाढ़ से हाहाकार
असम में बाढ से हालात खराब है. 13 लाख लोग प्रभावित हैं वहीं, मौतों का आंकड़ा 44 पहुंच गया है. बिहार में भी कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं. शिवहर में बागमती नदी में उफान पर है, बांध टूटने से हालात और बिगड़ गए हैं.

सुपौल कोसी पश्चिमी बांध में कटाव तेज हो गया है. नुकसान की आशंका से डरे गांव वालों और जल संसाधन महकमे के अफसरों के बीच धक्कामुक्की भी हुई है. बारपेटा में बाढ में फंसे लोगों को बचाया गया है. एनडीआरएफ की टीमों ने 4 जिलों में अभियान चलाया है. बिहार में बागमती के जलस्तर में बढोतरी से सीतामढ़ी में हाहाकार मच गया है. सुपौल में कोसी नदी का तांडव जारी है, तटबन्ध के भीतर सैंकड़ों गांवों में बाढ़ का पानी घुस आया है.

अस्पताल में घुसा बाढ़ का पानी
बिहार में हिमालय से निकलने वाली महानन्दा, कनकई, मेची, डॉक, रतुआ नदियों के जलस्तर ने परेशानी बढ़ा दी है. ये नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. इसके कारण निचले इलाकों में जलमग्न की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

अगले 24 घंटों में कहां-कहां होगी बारिश?
मौसम एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक अगले 24 घंटों में मुंबई, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, हिमाचल, यूपी और बिहार के कुछ इलाकों में भारी वर्षा हो सकती है. वहीं, मध्य प्रदेश, गोवा, कर्नाटक, गुजरात, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु और ओडिशा में मध्यम बारिश की संभावना है. हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और जम्मू कश्मीर में हल्की बौछार पड़ सकती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper