बिहार में उगाई जा रही दुनिया की सबसे महंगी सब्जी, कीमत सुनकर उड़ जाएंगे होश

पटना: आपने अपने जीवन में कई तरह की सब्जियां खरीदी और खाई होंगी। लेकिन आज तक आपने ऐसी सब्जी नहीं खाई होगी जिसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी होने का दर्जा प्राप्त है। आज हम आपको एक ऐसी ही सब्जी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी कहा जाता है। दुनिया की सबसे महंगी सब्जी को आमतौर पर आप बाजार में ढूंढ नहीं पाएंगे। लेकिन भारत का एक किसान बिहार में इस सब्जी की खेती कर रहा है। बता दें कि इस सब्जी का जायका लेने के लिए आपको करीब एक लाख रुपए खर्च करने पड़ेंगे। दुनिया की सबसे महंगी और अनोखी सब्जी नाम हॉप शूट्स है।

फूल का इस्तेमाल बीयर बनाने में
जिसे अब बिहार के औरंगाबाद में रहने वाले एक किसान ने पैदा करना शुरू कर दिया है। हॉप शूट्स नाम की इस सब्जी का फूल भी लोगों को काफी अच्छा लगता है। इसे हॉप कोन्स भी कहा जाता है। इसके फूल का इस्तेमाल बीयर बनाने में किया जाता है। जबकि बाकी टहनियों को खाने के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। इस सब्जी में औषधीय गुण का भंडार होता है। जिसका इस्तेमाल एंटीबॉयोटिक दवाई बनाने में किया जाता है। इस सब्जी की सबसे खास खूबी ये हैं कि इसका इस्तेमाल दांत और टीबी जैसी गंभीर बीमारियों से छुटकारा देने में सबसे लाभकारी होता है।

इसका उपयोग अचार के रूप में भी
इसे लोग कच्चा भी खाते हैं। इसकी टहनियों का इस्तेमाल सलाद के तौर पर भी कर सकते हैं। इसी के साथ इसका उपयोग अचार के रूप में भी किया जा सकता है। बता दें कि करीब 800 ईसवीं के आसपास लोग इसे बीयर में मिलाकर पीते थे और तब से लेकर अब तक इसका प्रयोग होता आ रहा है। सबसे पहले इसकी खेती उत्तरी जर्मनी में शुरू हुई थी। उसके बाद धीरे-धीरे पूरे विश्व में इसका प्रसार हो गया। हाल ही में आईएएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने अपने ट्विटर अकाउंट से दो तस्वीरें शेयर कीं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper