बीजेपी के पास सारा देश, कांग्रेस के पास सिर्फ चार प्रदेश

अखिलेश अखिल

पूर्वोत्तर के चुनावी परिणाम आने के बाद बहुत कुछ बदल गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने जहां चुनाव जितने में पूर्व प्रधानमन्त्री इंदिरा गांधी को पीछे छोड़ दिया है वहीँ बीजेपी से हिंदी बेल्ट का पार्टी होने का ठप्पा भी हट गया है। आपको बता दें कि पिछले चार साल में पीएम मोदी के रहते 21 चुनाव हुए जिसमे 14 राज्यों में बीजेपी की जीत हुयी है। इंदिरा गांधी के पीएम रहते 19 चुनाव हुए थे जिसमे 13 राज्यों में कांग्रेस की जीत हुयी थी।

इसके साथ ही अब बीजेपी पुरे भारत में पसर गयी है। अब वह सिर्फ हिंदी बेल्ट की पार्टी नहीं रही ,वह पुरे भारत की पार्टी हो गयी है। 46 साल बाद पूर्वोत्तर के 7 राज्यों में से 4 से ज्यादा में किसी एक पार्टी बीजेपी की सरकार है। यह कोई मामूली बात नहीं कही जा सकती। 25 साल पहले बीजेपी का नारा था ‘आज 4 प्रदेश, कल सारा देश’, लेकिन आज बीजेपी के पास पूरा देश है और कांग्रेस के पास सिर्फ 4 प्रदेश ही बचे हैं।

बीजेपी से हिंदी बेल्ट का पार्टी होने का ठप्पा हटा

27 साल में बीजेपी 15 राज्यों में अपने दम पर और 6 राज्यों में सहयोगियों से साथ सत्ता में आ चुकी है। देश के 77 फीसदी इलाके पर बीजेपी का शासन है। अब 68 फीसदी आबादी और 59 फीसदी इकॉनोमी भी बीजेपी शासित है। बीजेपी के अब 7 गैरहिंदी भाषी राज्यों में मुख्यमंत्री हैं। बीजेपी से हिंदी बेल्ट की पार्टी होने का ठप्पा हटा। वहीं, कांग्रेस पंजाब, कर्नाटक, मिजोरम, पुड्डुचेरी (केंद्र शासित प्रदेश) में ही बची है।

अब बीजेपी ने कर्नाटक मिशन के लिए तैयारी शुरू कर दी है। यहां अगले दो महीने में चुनाव होने हैं। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मार्च के आखिर से बेंगलुरु में रहेंगे। उन्होंने विधानसभा भवन से 200 मीटर दूर 6 कमरे का मकान चुना है। इसी साल कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मिजोरम में भी विधानसभा चुनाव होने हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper