बीजेपी नेता ने अयोध्या भूमि घोटाले में की जांच की मांग

अयोध्या: अयोध्या में भाजपा के एक नेता ने अयोध्या में बड़े पैमाने पर हुए नजूल भूमि घोटाले को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को शिकायत भेजी है। पीएमओ की वेबसाइट पर दर्ज अपनी शिकायत में भाजपा प्रवक्ता रजनीश सिंह ने आरोप लगाया है कि स्थानीय सरकारी अधिकारी नजूल भूमि घोटाले में शामिल हैं।

सिंह ने अयोध्या में नजूल भूमि के पुराने दस्तावेजों और भूखंडों की वर्तमान स्थिति का मिलान कर उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। कुछ दिन पहले बीजेपी सांसद लल्लू सिंह ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिकायत कर एसआईटी जांच की मांग की थी। अयोध्या का मंदिर शहर, जो निर्माण में भव्य राम मंदिर के लिए सुर्खियों में है, में अचल संपत्ति में तेजी देखी जा रही है।

पिछले कुछ महीनों में, मंदिर शहर नजूल भूमि घोटाले के कारण चर्चा में था, जिसमें स्थानीय अधिकारियों के शामिल होने का आरोप है। पीएमओ ने मामले को आगे की कार्रवाई के लिए यूपी सरकार को ट्रांसफर कर दिया था। अयोध्या में करीब 2,000 बीघा जमीन भू-माफियाओं द्वारा छीन लिए जाने की आशंका है।

मुख्यमंत्री को दी गई अपनी शिकायत में लल्लू सिंह ने कहा कि भू-माफियाओं ने सरकारी अधिकारियों के साथ सांठगांठ कर ली है।

फैजाबाद शहर के प्रसिद्ध ‘अफीम कोठी’ के पीछे 2,000 बीघा भूमि है और इसे जलमग्न क्षेत्र के रूप में जाना जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper