बीते गुजरात चुनाव को लेकर हाई कोर्ट में पड़ी 20 याचिकाएं, बीजेपी खेमे में निराशा

अखिलेश अखिल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: किसकी राजनीति कब किसपर भरी पर जाय और किसका खेल बिगड़ जाय भला कौन जाने। गुजरात चुनाव के बाद बीजेपी की सरकार चल रही है लेकिन अब गुजरात चुनाव में संभावित गड़बड़ियों को लेकर जिस तरह से 20 याचिकाएं हाई कोर्ट में दाखिल की गयी है ,अगर कोर्ट उस पर सुनवाई करती है तो एक अलग तरह का राजनितिक खेल शुरू होगा और माना जा रहा है कि कई जीते हुए लोग हार जाएंगे या फिर हारे लोग जीत का सेहरा बांधेंगे। खबर है कि इन याचिकाओं को लेकर गुजरात में राजनितिक भूचाल आ सकता है।

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में गड़बड़ी को लेकर गुरुवार को गुजरात हाईकोर्ट में दायर हुई 20 याचिकाओं ने गुजरात की राजनीती को गर्म कर दिया है और इससे बीजेपी खेमें में निराशा की लहर है। गुजरात में बीजेपी ने भले ही 99 सीटें जीतकर राज्य में सरकार बना ली हो लेकिन वहां ऐसी कई सीटें हैं जहाँ कांग्रेस प्रत्याशी 5000 से कम अंतर के वोटों से हारे हैं, और उनमें 16 सीटें ऐसी हैं जिसमें जीत का अंतर 3000 हजार वोट से भी कम का है। इसी को लेकर गुजरात हाईकोर्ट में अलग-अलग लोगों ने 20 याचिकाएं दायर की हैं।

पूर्व आईपीएस अधिकारी राहुल शर्मा इसमें मुख्य याचिकाकर्ता हैं। उन्होंने बीजेपी और कांग्रेस के उन सभी नेताओं की जीत के खिलाफ याचिका दायर की है जो 5000 हजार के कम अंतर से जीतें हैं। जिन सीटों के नतीजे को लेकर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है वो काफी महत्वपूर्ण सीटें हैं। इन सीटों पर जीते कई विधायक रुपाणी सरकार में मंत्री हैं। गुजरात कांग्रेस के कद्दावर नेता अर्जुन मोढवाडिया भी इन्ही सीटों में शामिल हैं जो चुनाव हार गए थे।गुजरात हाईकोर्ट अगर इसमें सुनवाई करता है तो जल्द ही गुजरात की राजनीती में बड़ा फेरबदल हो सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper