बीमार व्यक्ति को 2 हजार रुपए और निराश्रित व्यक्ति के अंतिम संस्कार के लिए 5 हज़ार रुपए की मदद दें : मुख्यमंत्री

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि यदि किसी पंचायत में किसी के पास राशन कार्ड नहीं है, तो संबंधित गांव के प्रधान तत्काल उसको 1 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दें। यदि कोई बीमार व्यक्ति है और उसको चिकित्सकीय सहायता की आवश्यकता है तो उसको 2 हजार रुपए और निराश्रित व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसके अंतिम संस्कार के लिए 5 हज़ार रुपए की आर्थिक सहायता भी दी जाए।

उक्त जानकारी शनिवार को यहां लोकभवन में कोरोना वायरस के संबंध में किए गए प्रेस कांफ्रेंस के दौरान अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पत्रकारों को दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिला अधिकारियों को आदेशित किया है कि जहां किसी के घर में क्वॉरंटाइन की जगह नहीं है, वहां उनको इंस्टीट्यूशनल क्वॉरंटाइन की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया है कि निगरानी समितियां यह सुनिश्चित करें कि बाहर से आए श्रमिकों को गांव में बने क्वारन्टीन सेंटर में ही रखवाया जाए।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि अबतक प्रदेश में रिकॉर्ड 1550 ट्रेनें आ चुकी हैं। आज 28 ट्रेनें और आ रही हैं। कुल मिलकर 1606 ट्रेनों को लिए अनुमति दी गई है। 257 ट्रेनें 3 लाख 31 हजार लोगों को लेकर गोरखपुर आई हैं। ये भी एक रिकॉर्ड है। राजधानी लखनऊ में भी 109 ट्रेनें आई हैं। रेलवे के अलावा बसों से भी लोगों का आना जारी है। अबतक लगभग पौने तीन लाख लोग बसों से आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि खाद्यान्न का वितरण 1 जून से शुरू होने वाला है और लोगों से यह अपील की गई है कि कार्ड धारक निर्धारित मात्रा में अपना खाद्यान्न लें और और यदि किसी प्रकार की कोई शिकायत है, तो वहां मौजूद सुपरवाइजर को इसकी खबर दें। उन्होंने बताया कि गो आश्रय स्थलों में अब तक 3133 भूसा बैंक स्थापित हो चुके हैं। टिड्डी दलों से निपटने के लिए कृषि विभाग ने पर्याप्त कीटनाशकों की व्यवस्था कर ली है।

पत्रकारवार्ता में मौजूद प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में 7 दिन से अधिक दिनों के लिए जो आएगा, उसको होम क्वॉरंटाइन में रहना होगा। उल्लंघन की स्थिति में उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। छठे दिन की जांच यदि नेगेटिव आती है तो उसका होम क्वारंटाइन समाप्त हो जाएगा। उन्होंने बताया कि हमने टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाते हुए शुक्रवार को 5-5 सैंपल के 667 पूल लगाए और 10-10 सैंपल के 55 पूल लगाए। 667 वाले पूल में 102 मरीज पॉजिटिव पाए गए जबकि 55 वाले पूल में से 8 पॉजीटिव पाए गए हैं। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के 2900 एक्टिव केस हैं, 4462 मरीज़ स्वस्थ हो कर घर जा चुके हैं और अबतक 204 लोगों की इस बीमारी से मृत्यु हो चुकी है।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि सर्विलांस का काम जारी है और अब तक 13223 इलाकों में सर्विलांस का कार्य हुआ है। 3 करोड़ 87 लाख 14 हजार 819 लोगों का सर्विलांस किया गया है। आशा वर्कर्स द्वारा अबतक 11 लाख 11 हजार 869 कामगारों और श्रमिकों की ट्रैकिंग की गई है, इनमें से 1022 लोगों में कोविड-19 के लक्षण पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप का हम लगातार उपयोग कर रहे हैं। कंट्रोल रूम से 44 हज़ार 79 लोगों को हम फोन कर चुके हैं। इनमें से 114 लोगों ने बताया कि वो संक्रमित हैं और उनका इलाज चल रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper