बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे: शुरुआत में 70 फीसदी भूमि होगी अधिग्रहित

लखनऊ ब्यूरो। जिले के महोबा स्थित कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में गत दिवस आयोजित समीक्षा बैठक में यूपीडा के विशेष कार्य अधिकारी चुनकू राम पटेल ने बताया कि एक्सप्रेसवे के लिये चौड़ाई में 110 मीटर भूमि का अधिग्रहण किया जाना है। पहले महीने में ही 70 भूमि क्रय कर मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया जाएगा।

भूमि-अधिग्रहण के सम्बंध में जानकारी देते हुए पटेल जी ने बताया कि विज्ञापित भूमि का ही अधिग्रहण किया जाय,बैनामे में चौहद्दी स्पष्ट रूप से लिखी जाय,बैनामा सर्किल रेट पर ही किया जाय,स्टाम्प एवं निबंधन शुल्क निर्धारित दरों के अनुरूप ही होना चाहिए तथा दर निर्धारण भूमि के हिसाब से ही किया जाय।

यूपीडा के विशेष कार्य अधिकारी ने दो माह में भूमि अधिग्रहण करने के दिये निर्देश

उन्होंने संबंधित एसडीएम एवं तहसीलदार को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि ऐसी कोई गलती न करें जो ऑडिट के समय आपकी परेशानी बढ़ा दे। इसलिए विक्रेता का पूर्ण विवरण अंकित कर भुगतान उसी व्यक्ति को ई-पेमेंट के माध्यम से किया जाय।

उन्होंने ये भी बताया कि सभी प्रकार की परिसंपत्तियों का मूल्यांकन बैनामे के साथ ही किया जाय।मकान का मूल्यांकन पीडबल्यूडी से करा के भुगतान किया जायेगा एवं पेड़ों, वृक्षों को सम्बन्धित व्यक्ति द्वारा स्वयं 15 दिन के अन्दर ही हटाना होगा। यदि किसी व्यक्ति का मकान सार्वजनिक भूमि पर स्थित है,तो उसके मकान का मुआवजा दिया जाएगा,जमीन का नहीं।

उन्होंने स्पष्ट रूप से बताया कि ज़मीदारी उन्मूलन अधिनियम की धारा 132 तथा राजस्व संहिता की धारा 77 के अंतर्गत आने वाली भूमियों का मुआवजा नहीं दिया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper