बुक्कल नवाब ने अयोध्या में मस्जिद को लेकर दिया बयान, कार्यकर्ता भड़के

लखनऊ ब्यूरो । भाजपा नेता और एमएलसी बुक्कल नवाब को गुरुवार को विश्वेश्वरैया सभागार में आयोजित पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चा के कार्यक्रम में उस समय विरोध का सामना करना पड़ा, जब राम मंदिर को लेकर उनके बयान पर लोग भड़क गए। माहौल बिगड़ता देखकर मंच व्यवस्था में लगे कार्यकर्ताओं ने बुक्कल नवाब को मंच से हटा दिया।

लखनऊ में लो​क निर्माण विभाग के मुख्यालय के निकट स्थित विश्वेश्वरैया सभागार में भारतीय जनता पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति बैठक आयोजित थी। इसका उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने किया।

उन्होंने मोदी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि उनकी सरकार अल्पसंख्यक समाज के हित में लगाार काम कर रही है। नकवी ने कार्यकर्ताओं से सरकार की योजनाओं की जानकारी लोगों तक पहुंचाते रहने की भी अपील की। वहीं कार्यक्रम के दौरान एमएलसी बुक्कल नवाब को भी भाषण देने के लिए आमंत्रित किया गया।

वह अपना भाषण दे रहे थे, तभी उन्होंने कहा कि अयोध्या में मस्जिद बन नहीं सकती, अगर बन भी गयी तो वहां नमाज नहीं हो सकती है। बुक्कल अभी आगे कुछ और बोलते, कि सभागार में बैठे कार्यकर्ता उनकी बातों को सुनकर भड़क गये। अल्पसंख्यक मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने बुक्कल नवाब का विरोध शुरु कर दिया। इसके बाद वह उन्हें भाषण बंद करने की चेतावनी देने लगे।

मोर्चा के कार्यकर्ताओं की नाराजगी देखकर मंच व्यवस्था में लगे लोगों ने तत्काल ही एमएलसी बुक्कल नवाब को मंच से हटा दिया। उन्हें पीछे के रास्ते से बाहर किया। बुक्कल नवाब ने बाहर आ कर मीडिया से बातचीत में कहा कि उनकी बातों को कार्यकर्ता समझ नहीं सके हैं। वे केवल नमाज के लिए मस्जिद की पद्धति को समझा रहे थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper