बेटियों की खातिर मुखबिर जैसे काम कर रहे प्रधानमंत्री मोदी: स्वाति सिंह

लखनऊ ब्यूरो। किसी भी बेटी की कोख में हत्या न हो, इस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मुखबिर की तरह काम कर रहे हैं। ‘बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ’ की अलख तो जगा ही रहे हैं। वहीं, भ्रूण में मार दी जा रही बेटियों के मसले पर भी वे बहुत गंभीर हैं। बेटियों के प्रति उनकी चिंता जगजाहिर है।

यह बातें शनिवार को उत्तर प्रदेश की राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह ने कही। वह राजधानी स्थित विद्यान्त हिन्दू स्नातकोत्तर महाविद्यालय के संस्थापक स्व. विक्टर नारायण विद्यान्त के 124वें जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रही थीं। स्वाति ने कहा कि शिक्षण संस्थान एक ऐसा जगह होती है, जहां बच्चा कच्ची मिट्टी की तरह आता है और शिक्षक मूर्ति बनाता है। उन्होंने कहा कि इस कॉलेज के संस्थापक विद्यान्त जी ने अपनी सुख सुविधाओं को त्यागकर समाज के लिए काम किया।

महिला सशक्तिकरण पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि हमारे देश-समाज में अभी बेटियों को कम आंका जा रहा है। उन्हें अवसर कम मिल रहा है। बेटियों की प्रतिभा को पहचानिए और अवसर ​दीजिए। बेटियां आगे बढ़ेंगी तो देश गौरवान्वित होगा।

विद्यान्त महाविद्यालय का अविस्मरणीय इतिहास:ब्रजेश पाठक

कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक ने महाविद्यालय परिवार को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मैं यहीं का छात्र रहा हूं। अपने स्तर पर यहां के लिए काम जरूर करूंगा। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक मंडल के साथ बैठक करके योजना बनायी जाएं। उन्होंने कहा कि इस संस्थान का अविस्मरणीय इतिहास है।

इस अवसर पर संस्थान के मेधावी छात्र-छात्राएं ऋचा अग्रवाल, कैलाशनाथ श्रीवास्तव, निशा मिश्रा, सार्थक गुप्ता व वैभव दीक्षित को अतिथियों ने पुरस्कार व मेडल देकर सम्मानित किया। वहीं, बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति से सभी का मन मोहा और तालियां बटोरी। इस अवसर पर लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एसपी सिंह समेत अन्य अतिथि भी उपस्थित रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper