बेटियों की शादी क्यों कभी नहीं करवाई अकबर ने, जाने आखिर क्या है इसकी वजह

अगर हम मुगल साम्राज्य के इतिहास की बात करे तो मुगल शासकों में अकबर ही एक ऐसे राजा थे, जो सबसे ज्यादा प्रसिद्ध थे। जी हां राजा अकबर ने अपने शासनकाल में अपनी प्रजा के लिए काफी कुछ किया। शायद यही वजह है कि वर्तमान समय में राजा अकबर की कहानी केवल टीवी सीरियल में ही नहीं बल्कि फिल्मों में भी दिखाई जाती है। मगर क्या आप जानते है कि आखिर राजा अकबर ने कभी अपनी बेटियों की शादी क्यों नहीं करवाई और आखिर इसके पीछे की वजह क्या है?

गौरतलब है कि जहाँ एक तरफ राजा अकबर की कई बेगमें थी, वही दूसरी तरफ उन्होंने एक हिन्दू रानी के साथ भी विवाह किया था और एक हिन्दू रानी से विवाह करने के बाद राजा अकबर का व्यव्हार काफी बदल गया था। इसके इलावा ये कहना भी गलत नहीं होगा कि राजा अकबर एक पराक्रमी योद्धा था। इसके साथ ही राजा अकबर को उनकी शान और शौकत के लिए भी बखूबी जाना जाता है। यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि सलीम के इलावा राजा अकबर की तीन बेटियां भी थी, जिनका उन्होंने कभी विवाह नहीं करवाया।

इसकी वजह ये है कि अकबर को किसी के सामने झुकना पसंद नहीं था। ऐसे में जब अकबर की बेटियां शादी के लायक हुई, तब उन्हें भी अपनी बेटियों की शादी की चिंता सताने लगी। बहरहाल अकबर को इस बात का भी बखूबी एहसास था कि अगर उसने अपनी बेटियों की शादी करवाई, तो उसे दूल्हे के पिता और दूल्हे के सामने झुकना पड़ेगा और ये अकबर को जरा भी मंजूर नहीं था। ऐसे में खुद के और अपनी बेटियों के मान सम्मान को कायम रखने के लिए अकबर ने ये बड़ा फैसला लिया कि वह अपनी बेटियों की कभी शादी नहीं करवाएगा।

वही अकबर की बेटियों के महल में पुरुषों के आने पर भी सख्त मनाही थी। आपको जान कर हैरानी होगी कि अपनी बेटियों की सुरक्षा के लिए अकबर ने किन्नर सेना को तैनात किया था और अकबर की इस नीति का पालन उनके वंशज द्वारा भी किया गया। वैसे अब तो आपको पता चल गया होगा कि अकबर ने जीवन भर अपनी बेटियों की शादी क्यों नहीं करवाई और आखिर इसके पीछे की असली वजह क्या थी।

हिन्दुस्तान फीड से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper