बेटी का ख्वाब पूरा करने के लिए सात साल से सिर्फ नूडल खाकर जिन्दा है ये आदमी

नई दिल्ली: नूडल्स ज़्यदातर हम सभी को पसंद होते हैं। लेकिन रोजाना और लगातार सात सालो तक सिर्फ नूडल कोई शौक के लिए नहीं खा सकता। यदि रोज़ाना कोई नूडल्स खाये भी तो एक-दो दिन में ही उसे खाकर बोर हो जायेगा। लेकिन चीन का 49 वर्षीय ‘हो यानवेइ’ 7 सालों से सिर्फ नूडल्स खा रहे हैं। लेकिन ये सब वो किसी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए नहीं कर रहे है, बल्कि वह अपनी बेटी का सपना पूरा करने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

हो अपनी 11 साल की बेटी के सपने के पूरा करने के लिए पिछले 7 सालों से सिर्फ नूडल्स खाकर गुज़ारा कर रहे हैं। कुछ साल पहले उनकी पत्नी ने उन्हें तलाक दे दिया और तब से वह अपनी बेटी को अकेले ही पालते हैं। ‘हो’ अपनी बेटी के साथ एक छोटे से घर में रहते हैं, जिसका किराया 300 युआन प्रति महीना है।

हो यानवेइ कहते हैं, “आसान नहीं है ऐसे जीना, पर मैंने उससे वादा किया था कि मैं उसका ख़्याल रखूंगा। मैं उम्मीद करता हूं कि उसे मुझसे अच्छी ज़िन्दगी मिलेगी।” ‘हो’ अपनी बेटी के सपने पूरे करने के लिए सड़कों पर झाड़ू लगाते हैं।

इस काम से उन्हें महीने के 2000 युआन मिलते हैं। हो की बेटी जिमनास्ट बनना चाहती है। इसके लिए वो वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ फिज़िकल एजुकेशन में ट्रेनिंग ले रही है, पर उसकी फीस बहुत ज़्यादा है। यही वजह है कि हो ने अपने निजी खर्च कम कर लिए। वह खुद पर प्रतिदिन 10 युआन खर्च करते हैं। खाने का खर्च कम करने के लिए वह अब रोज सिर्फ नूडल्स ही खाते हैं। इस तरह अब तक वह 2 टन नूडल्स खा चुके हैं।

हो की कहानी फिल्म दंगल में आमिर खान के किरदार से काफी मिलती जुलती है, जिसमे आमिर एक पिता बनकर सभी मुश्किलों से लड़कर अपनी बेटी को सफलता के शिखर तक ले जाते हैं। हो की आपबीती सुनकर एक उनके बारे में कहा जा रहा है कि ‘एक पिता का प्यार पहाड़ से भी ज्यादा मजबूत होता है।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper