ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन का भारत दौरा हो सकता रद्द

नई दिल्ली: ब्रिटेन में कोरोना वायरस के दो नए वेरिएंट मिलने के बाद से मामलों में लगातार तेजी आ रही है और यही कारण है कि बोरिस जॉनसन को अपना भारत दौरा रद्द करना पड़ सकता है। ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के तौर पर आने वाले हैं। हालांकि, अब ऐसी आशंकाएं जताई जा ही हैं कि बोरिस जॉनसन का यह दौरा रद्द हो सकता है। वजह है, कोरोना वायरस का बढ़ता कहर। यह कहना है ब्रिटिश मेडिकल एसोसिएशन के प्रमुख डॉक्टर चांद नागपाल का।

डॉक्टर नागपाल ने कहा, ‘जाहिर है हम उस मुद्दे पर कुछ फैसला नहीं सुना सकते, जो पांच हफ्ते बाद होना है। वायरस को लेकर हर दिन बदलाव होते हैं लेकिन अगर वायरस का प्रसार इसी तरह जारी रहा तो बोरिस जॉनसन की भारत यात्रा पर भी इसका असर होगा और शायद यह रद्द हो सकता है।’ उन्होंने यह भी कहा कि लंदन व अन्य हिस्सों में लागू लॉकडाउन की वजह से अगर यह वायरस काबू में आ जाएगा तो यह यात्रा हो सकती है।

उन्होंने बताया, ‘नए स्ट्रेन के फैलने से अस्पताल में बिस्तरों की उपलब्धता प्रभावित हुई है। अस्पतालों में 90 फीसदी से ज्यादा जगह भर चुकी हैं। इंग्लैंड में अब कोरोना की पहली लहर के मुकाबले ज्यादा मरीज सामने आ रहे हैं। अधिकतर अस्पताल भरे हुए हैं।’बता दें कि ब्रिटेन में लोगों को फाइजर की कोरोना वैक्सीन देना शुरू किया गया है लेकिन इस म्यूटेंट स्ट्रेन को लेकर डर यह है क‍ि कहीं इस पर टीका बेअसर ना हो जाए।

डॉक्टर नागपाल के मुताबिक कोरोना के नए स्ट्रेन के जेनेटिक लोड में कम से कम 17 बदलाव हुआ हैं। इसका पहला मामला सितंबर में दक्षिणपूर्वी इंग्लैंड में सामने आया था। हालांकि, ऐसी कोई जानकारी नहीं है कि यह वेरिएंट ज्यादा खतरनाक है या फिर इससे मरने वालों की संख्या ज्यादा है लेकिन यह पहले रूप से 70 प्रतिशत ज्यादा तेजी से फैलता है, जो कि कोरोना पर नियंत्रण पाने के रास्ते में सबसे बड़ी चुनौती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper