बड़ा सवाल: जहां हिन्दी में बघारी जाती हैं शेखियां, वहां हिंदी में फेल हो गए 10 लाख छात्र

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में इस बार दसवीं और बारहवी में दस लाख छात्र हिंदी फेल हो गए हैं. 26 अप्रैल को यूपी बोर्ड का रिज़ल्ट आया है. रिज़ल्ट चेक किया गया तो पता चला कि हाईस्कूल की हिन्दी की परीक्षा में 29,50, 442 लाख छात्रों ने हिस्सा लिया. इसमें से 80.54 फीसदी यानी 23,76,335 लाख छात्र ही पास हो सके. 10वीं के 5,74,107 छात्र फेल हो गए. यानी 19 फीसदी छात्र फेल हो गए.

इंटर की परीक्षा में 8,21,077 छात्रों ने हिस्सा लिया. 6,27630 लाख छात्र पास हो गए. 12वीं हिन्दी में पास होने वाले छात्रों का प्रतिशत 76.44 प्रतिशत रहा. यानी 12वीं में 1,93,447 छात्र फेल हो गए. 12वीं के सामान्य हिन्दी में 2,30,394 लाख छात्र फेल हुए हैं. 10वीं और 12वीं में हिन्दी में फेल होने वालों की संख्या 9,97,948 हो जाती है. करीब दस लाख छात्र हो जाते हैं. उत्तर प्रदेश जहां हिन्दी में सारी शेखियां बघारी जाती हैं, एक हुंकार में भारत को विश्व गुरु बना देने का दावा किया जा रहा है वहां दस लाख छात्र ऐसे हैं जो हिन्दी में फेल हो गए हैं.

फिलहाल यदि हम उत्तर प्रदेश के गणित की परीक्षा की बात करें तो हिंदी जैसे ही आंकड़े देखने को मिलेंगे. हाईस्कूल में गणित की परीक्षा में 19,12,491 छात्र शामिल हुए. सिर्फ 73.68 प्रतिशत यानी 14,09206 छात्र पास हुए. जबकि 5,03,285 छात्र गणित में फेल हो गए. इंटर में 6,02026 लाख छात्र गणित की परीक्षा में शामिल हुए. इसमें से 3,80,819 यानी मात्र 63.26 प्रतिशत ही छात्र पास हुए. 2,21,207 छात्र गणित की परीक्षा में फेल हो गए. दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में 7,24,492 लाख छात्र फेल हुए हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper