भगवान राम और भगवामय होती प्रदेश की राजनीतिक फिजा

प्रदेश की राजनीतिक फिजा अब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के साथ ही साथ भगवाई रंग में सराबोर होती नजर आ रही है और धीरे-धीरे यहां की सियासत पर यह रंग कुछ और चटक होता जाएगा। इसका कारण यह है कि भाजपा की राजनीति तो हमेशा भगवा रंग में ही सराबोर रहती थी लेकिन अब कांग्रेस भी उदार हिंदुत्व की राह पर चलते हुए नजर आ रही है जिसके चलते राम और भगवामय होने के आसार बढ़ते जा रहे हैं। राम के पेटेंट को लेकर भी दिलचस्प संवाद होने लगे हैं।

कांग्रेस द्वारा पूरे प्रदेश में राम जन्म मंदिर भूमि पूजन के एक दिन पूर्व हनुमान चालीसा पाठ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा अयोध्या में भूमि पूजन के मुहूर्त पर सवालिया निशान लगाने के बाद भाजपा नेताओं ने कांग्रेस पर तीखा पलटवार किया। आज कमलनाथ के शासकीय निवास सहित प्रदेश भर में कांग्रेस नेताओं द्वारा हनुमान चालीसा पाठ का आयोजन किया गया। कांग्रेस के इस आयोजन पर भाजपा नेताओं ने चुटकी ली तो भाजपा की फायरब्रांड नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने यह कहते हुए भाजपा को आईना दिखा दिया कि भाजपा की बपौती नहीं हैं राम। उसके साथ उमा ने यह नसीहत भी दे डाली हम अहंकार ना पाले कि राम पर हमारा पेटेंट है। कमलनाथ और शिवराज दोनों के ही ट्विटर हैंडल आज भगवाई नजर आए। उमा भारती राम मंदिर आंदोलन से काफी गहरे से जुड़ी रही हैं और उन पर विवादित ढांचा गिराने को लेकर मुकदमा भी चल रहा है। उन्होंने उज्जैन में एक बहुत बड़ी बात कह डाली जिस पर भाजपा को आत्म- चिंतन करने की अधिक जरूरत है।

सोमवार को उज्जैन में मीडिया से चर्चा करते हुए उमा भारती ने कहाकि राम सबके हैं जो भाजपा में हैं और जो भाजपा में नहीं है, जो राम को मानते हैं, चाहे वह किसी भी धर्म के हों, किसी भी पार्टी के हों, किसी भी समुदाय के हों। चेतावनी की मुद्रा में उन्होंने कहा कि जो राम के नाम में आस्था रखते हैं, राम को मानते हैं। वे सब अधिकार रखते हैं कि इस बारे में अपनी राय दें। उस अधिकार को रोकने का अहंकार पाल लेंगे कि राम हमारा पेटेंट हैं, तो हम भूल रहे हैं कि हमारा अंत होना है, राम तो अनादि और अनंत हैं। राम नाम का कभी अंत नहीं होगा। दिग्विजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण भूमि पूजन की 5 अगस्त की तिथि इस आधार पर टालने की मांग की थी कि यह शुभ मुहूर्त नहीं है। दिग्विजय पर भाजपा हमलावर हो गई है। प्रदेश के गृहमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ द्वारा हनुमान चालीसा करने पर तंज कसा और बोले जानी न जाए निशाचर माया। उन्होंने दिग्विजय के लिए भी तंज किया और कहा कि वे लंका कांड कर रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तंज करते हुए कहा कि अरे कांग्रेसियों, राम का नाम लेने से ही समय शुभ हो जाता है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि कांग्रेस के नेता जिन्होंने श्रीराम के अस्तित्व को ही नकार दिया, आज राम मंदिर के निर्माण के शुभ-अशुभ समय के निर्धारण में लगे हैं।

आज हनुमान चालीसा पाठ के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए कमलनाथ काफी आक्रामक मुद्रा में नजर आए और उन्होंने तल्ख अंदाज में कहा कि हम धार्मिक आयोजन करते हैं तो भाजपा के पेट में दर्द पता नहीं क्यों चालू हो जाता है? क्या धर्म का उनका पेटेंट है, उनका ठेका है, उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है क्या? कमलनाथ ने कहा कि हम राम मंदिर निर्माण के लिए प्रदेश की जनता की ओर से 11 चांदी की शिला भेज रहे हैं। हम राम मंदिर निर्माण का स्वागत करते हैं। राजीव गांधी ने 1985 में शुरुआत की थी और 1989 में शिलान्यास किया। राजीव जी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है। अगर आज राजीव होते तो यह सब देखते। उन्होंने कहा कि बस हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिए नहीं करते, हम इसे इवेंट नहीं बनाते हैं। हम सभी की सोच धार्मिक है लेकिन हम धर्म और राजनीति का गठजोड़ नहीं करते हैं। मध्यप्रदेश में विधानसभा के 27 उपचुनाव होना है और धीरे-धीरे यहां की राजनीतिक फिजा को भगवान राम और हनुमान के साथ ही भगवा रंग में रंगने में भाजपा और कांग्रेस कोई कोर कसर बाकी नहीं रखेंगी तथा एक दूसरे पर तल्खी से व्यंग बाण छोड़ती रहेंगी।
और अंत में……….

कमलनाथ की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस राजनीति राम नाम के सहारे और आगे बढ़ने वाली है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भगवान राम के ननिहाल में माता कौशल्या का मंदिर बनाने और उस क्षेत्र को विकसित करने के साथ ही राम वन गमन पथ विकसित करने का निर्णय किया है। कांग्रेस भी कल बुधवार को शाम को 7:00 बजे से दिए जलाकर खुशियां मनाएगी। रायपुर के कांग्रेस विधायक और संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने घर- घर जाकर एक लाख मिट्टी के दिए बांटने का काम आज सुबह से ही प्रारंभ कर दिया है। उनका कहना है कि राम मंदिर निर्माण का जो मौका आया है उसका श्रेय हमारे नेता राजीव गांधी को ही है, इसलिए हम दिए जला कर खुशियां मनाएंगे। भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने छत्तीसगढ़ में घरों में जाकर भगवा झंडा बांटने का काम चालू कर दिया है ताकि लोग अपने घरों पर इसे लगाएं। भाजपा पहले से ही दिए जलाने का लोगों से देशव्यापी आव्हान कर चुकी है।

अरुण पटेल/सुबह सबेरे से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper