भाई-बहन हैं दूर तो इन मैसेजेस से दें भैया दूज की बधाई

भाई-बहन के परस्पर प्रेम और स्नेह का प्रतीक त्योहार भैया दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि को मनाया जाता है. इस साल यह त्‍योहार 21 अक्‍टूबर को मनाया जाएगा. भाई दूज को भाऊ बीज और भातृ द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है. इस मौके पर बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं. लेकिन कुछ भाई-बहन ऐसे भी हैं जो इस पर्व पर एक-दूसरे से दूर हैं. तो वो कुछ खास मैसेजेस के जरिए भाई दूज की बधाई दे सकते हैं.

बहन लगाती तिलक, फिर मिठाई खिलाती,
भाई देता उपहार और फिर बहन है मुस्कुराती,
भाई-बहन का यह रिश्ता है सबसे मज़बूत,
आप सब को मुबारक हो भाई दूज…

बहन चाहे भाई का प्यार,
नहीं चाहिए उसे कोई महंगा उपहार,
रिश्ता यह प्यारा रहे सदियों तक अटूट,
मेरे प्यारे भईया को मुबारक हो भाई दूज…

खुशनसीब होती है वो बहन,
जिसके सिर पर भाई का हाथ होता है.
हर परेशानी में उसके साथ होता है,
लड़ना-झगड़ना फिर प्यार से मनाना,
तभी तो इस रिश्ते में इतना प्यार होता है.
भाई दूज की शुभ कामनायें…

‘जान’ कहने वाली गर्लफ्रेंड न हो तो कोई बात नहीं लेकिन…
.
.
‘ओए हीरो’ कहने वाली एक बहन जरुर होनी चाहिए।
हैप्पी भाई-दूज…

खुशनसीब होती है वो बहन जिसे भाई का प्यार मिलता है;
खुशनसीब होते हैं लोग जिन्हें यह संसार मिलता है।
भाई दूज के त्यौहार की सभी को शुभ कामनायें…

प्रेम और विश्वास के बंधन को मनाओ;
जो दुआ माँगो उसे तुम हमेशा पाओ;
भाई दूज के त्यौहार है, भईया जल्दी आओ;
अपनी प्यारी बहना से आकर तिलक लगवाओ.
भाई दूज की शुभ कामनायें…

भाई दूज का है आया है शुभ त्योहार;
बहनों की दुआएं भाइयों के लिए हज़ार;
भाई बहन का यह अनमोल रिश्ता है बहुत अटूट;
बना रहे यह बंधन हमेशा खूब.
भाई दूज की शुभ कामनायें…

टिप्पणियां भाई दूज का है त्योहार;
बहन मांगे भाई से रुपये हज़ार;
तिलक लगाकर मिठाई खिलाकर;
देती आशीर्वाद खुश रहो हर बार.
हैप्पी भाई-दूज…

बहन चाहे भाई का प्यार;
नहीं चाहे महंगे उपहार;
रिश्ता अटूट रहे सदियों तक;
मिले मेरे भाई को खुशियां अपार.
हैप्पी भाई-दूज…

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper