भाजपा को गुंडों-लफंगों की पार्टी कहने पर राघव चड्ढा की बढ़ीं मुश्किलें, मिला लीगल नोटिस

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को गुंडों-लफंगों की पार्टी कहने को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) नेता राघव चड्ढा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। भाजपा युवा मोर्चा पंजाब के उपाध्यक्ष अशोक सरीन ने आप नेता राघव चड्ढा को लीगल नोटिस भेजा है। जिसमें उन्होंने चड्ढा से उनसे और भाजपा से लिखित में माफी मांगने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में राज्यसभा सांसद बने राघव चड्ढा ने भाजपा को ‘गुंडों-लफंगों की पार्टी’ कहते हुए भगवा दल के बहिष्कार की अपील की थी। चड्ढा को भेजे गए लीगल नोटिस में कहा गया है आपने झूठ बोलकर लोगों और समाज के मन में बीजेपी की प्रतिष्ठा कम करने और दुर्भावना पैदा की। आपकी ओर से दिए गए बयान अपमानजनक और पूरी भाजपा के चरित्र हनन के समान है। सरीन ने चड्ढा से तीन दिन के भीतर लिखित में माफी की मांग की है। ऐसा नहीं करने पर आपराधिक शिकायत दर्ज कराई जाएगी।

गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर तोड़फोड़ केस में गिरफ्तार किए गए भाजयुमो के 8 कार्यकर्ताओं की रिहाई के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने उनका स्वागत किया। चड्ढा ने इसी को लेकर भाजपा पर निशाना साधते हुए इसे गुंडों और लफंगों की पार्टी बताया था।
रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए आप नेता ने कहा था कि इस देश के लोगों को फैसला करना है कि वह देश को केजरीवाल स्कूल ऑफ पॉलिटिक्स के जरिए प्रगति और विकास के रास्ते पर ले जाना चाहते हैं या भाजपा की गुंडागर्दी वाली राजनीति से नीचे ले जाना चाहते हैं। आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस करके भाजपा पर निशाना साधा था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर कहा कि भाजपा अच्छे स्कूल नहीं खोल सकती, क्योंकि इसे गुंडों की जरूरत है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper