भाजपा नहीं, आरएसएस चला रही है सरकार: अखिलेश यादव

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा पर जातियों के बीच नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा है यूपी की सरकार भाजपा नहीं बल्कि आरएसएस चला रही है।श्री यादव मंगलवार को यहां पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए प्रदेश सरकार की नीतियों की आलोचना करते हुए कहा इससे किसान और नौजवान सभी परेशान हैं। किसान को अपने उत्पाद का लाभकारी मूल्य मिलना तो दूर उनकी लागत भी उन्हें नहीं मिल पा रही है। इससे किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

किसानों को योगी सरकार का तोहफा, यूरिया सस्ती

किसानों को खाद, बीज, ईंधन सब महंगा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत ही खराब है। बैंकों के पास लूट और हत्याएं हो रही हैं। गांवों और शहरों में उत्पीड़न की कार्रवाइयां तेजी से हो रही है।पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की आजादी के बाद स्वतंत्र हुए कई राष्ट्र विकसित हो गए हैं। फिनलैंड, डेनमार्क, स्वीडन जैसे देशों में शिक्षा और स्वास्य सेवाएं नि:शुल्क हैं। भारत में डायबिटीज और दिल की बीमारी के मरीज बड़ी तादाद में है। आंख की बीमारी, टीबी का प्रकोप यहां ज्यादा है। महिलाओं के प्रति अपराध बढ़े है।

यह स्थिति चिंता जनक है।श्री यादव ने आरोप लगाया भाजपा की गलत आर्थिक नीतियों के चलते हजारों उद्योगपति विदेश चले गए हैं। बैंकों को घाटे में पहुंचा दिया है। नोटबंदी से काले धन पर रोक नहीं लगी। जीएसटी से बेरोजगारी बढ़ी है। देश की अर्थव्यवस्था पर संकट है। उन्होंने कहा कि तमाम समस्याओं का समाधान गांधीवादी और समाजवादी सोच से ही हो सकता है। गरीबों की ताकत समाजवादी विचारधारा में हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper