भाजपा नेताओं ने आदित्यनाथ सरकार से शराब बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया

लखनऊ: भाजपा के सांसद सत्यदेव पचौरी और साक्षी महाराज के बाद अब भाजपा के एक विधायक ने शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। बलिया के सुरेंद्र सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से राज्य में शराब बिक्री की अनुमति देने के अपने फैसले की समीक्षा करने का आग्रह किया है। बिहार सरकार का उदाहरण देते हुए सिंह ने कहा, “राजस्व संग्रह के लिए लोगों के जीवन के साथ समझौता करना सही नहीं है। उत्तर प्रदेश को भी शराबबंदी की घोषणा करनी चाहिए जैसे बिहार सरकार ने की है।”

बलिया विधायक ने कहा कि शराब की बिक्री के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना एक असंभव काम था और जब कोरोना संकट खत्म नहीं हुआ है तो शराब की दुकानों को लॉकडाउन के दौरान नहीं खोला जाना चाहिए था।

उन्होंने कहा, “राज्य सरकार राजस्व संग्रह के लिए अन्य स्रोतों के बारे में सोच सकती है और शराब की बिक्री उनमें से एक नहीं होनी चाहिए। शराब की बिक्री न केवल व्यक्तियों के स्वास्थ्य, बल्कि समाज के स्वास्थ्य को भी खतरे में डालेगी।”

इससे पहले, भाजपा के सांसद सत्यदेव पचौरी और साक्षी महाराज ने बंद के दौरान शराब की बिक्री पर आपत्ति जताई थी और कहा था कि इससे महामारी को रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper