भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था चौपट, घुट-घुट कर जी रहा है गरीब: मायावती

चंडीगढ़: यूपी उपचुनाव में जीत का स्वाद चखने के बाद उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती गुरूवार को चंडीगढ़ में एक विशाल रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी गरीब व दलित विरोधी है। इस सरकार के शासनकाल में गरीब घुट-घुट कर जी रहा है। कानून व्यवस्था की स्थिति चौपट हो चुकी है। दलितों पर अत्याचार बढ़ा है।

मायावती ने रैली को संबोधित करते हुए सबसे पहले पार्टी के संस्थापक कांशीराम के जन्मदिन की बधाई दी। फिर कहा कि पंजाब की सरकारों ने दलितों को हमेशा नजरअंदाज किया है। इसलिए कार्यकताओं को अब खुद मेहनत करनी पड़ेगी। पार्टी को खड़ा करने के लिए खुद संघर्ष करना होगा। मायावती ने पंजाब के कार्यकर्ताओं को कड़ी नसीहत दी। उन्होंने कहा कि पंजाब में जिन लोगों को पार्टी संगठन की जिम्मेवारी सौंपी गई है, वे भूल जाएं कि यूपी से उन्हें कुछ मिलेगा। यहां के नेता यूपी में किसी पद के लालच में न रहें, उनके लिए बेहतर रहेगा।

मायावती ने कहा कि वर्तमान में गरीबों, दलितों, आदिवासियों पर अत्याचार हो रहे हैं। भाजपा की गलत नीतियों व गलत कार्यशैली के कारण यह वर्ग परेशान है। बसपा ने एेसे लोगों को जुल्मों से निजात दिलाने के लिए हर स्तर पर इन्हें संगठित करने का फैसला लिया है। इसके लिए वह यहां आई हैं। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि जब 1995 में उत्तर प्रदेश में उनकी सरकार बनी थी तो उन्होंने सभी वर्गों के हितों की रक्षा की। खासकर कमजोर व उपेक्षित वर्गों का विशेष ध्यान रखा।

मायावती ने कहा कि उन्होंने अपने मुख्यमंत्रित्वकाल में सभी वर्गों के कल्याण के लिए अलग-अलग विभाग बनाए। बसपा की सरकार ने मोदी सरकार की तरह रोजगार देने के हवाई वादे नहीं किए, बल्कि ठोस काम किया। कई लोगों को रोजगार दिया गया। कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखी और अपराधमुक्त समाज की स्थापना की। वर्तमान भाजपा सरकार मेें कानून व्यवस्था की स्थिति चौपट हो गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper