भाजपा सांसद रंजीता कोली पर खनन माफियाओं का हमला; पुलिस पर लगाया कार्रवाई न करने का आरोप

भरतपुर: राजस्थान के भरतपुर (Bharatpur, Rajasthan) से भाजपा सांसद रंजीता कोली (Ranjeeta Koli)ने रविवार को दावा किया कि उनकी कार पर खनन माफिया (Mining Mafia) ने हमला किया और उन्हें मारने की कोशिश की। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार कोली ने कहा कि वह दिल्ली से जा रही थी, तभी उन्‍होंने ओवरलोड ट्रक देखे और जब उन्हें रोकने की कोशिश की, तो उन पर हमला किया गया।

धरने पर बैठी भाजपा सांसद
पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए भाजपा सांसद धरने पर हैं। रंजीता कोली ने कहा “मैंने देखा कि लगभग 150 ट्रक ओवरलोड थे। मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की लेकिन वे भाग गए। उन्होंने सोचा कि मैं कार में थी और इस तरह उन्होंने पथराव किया, मेरी कार तोड़ दी। मेरी जान को खतरा था, लेकिन मैं डरने वाली नहीं हूं।

एएसपी आरएस काविया का बयान
सहायक पुलिस अधीक्षक (एएसपी) आरएस काविया ने कहा “सांसद ने रात में हमें बताया कि वह दिल्ली से जा रही थी जब उसने ओवरलोड ट्रक देखे। उसने उन्हें रोकने की कोशिश की, जबकि 2-3 ट्रक रुक गए लेकिन अन्य भाग गए। उन्‍होंने यह भी कहा कि उनकी कार पर पथराव किया और उस पर हमला किया।” इसी बीच भरतपुर के जिलाधिकारी आलोक रंजन उस जगह पहुंचे जहां भाजपा सांसद अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठी थी।

भरतपुर जिलाधिकारी आलोक रंजन का बयान
सांसद रंजीता कोली ओवरलोड ट्रकों पर पथराव करने का आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गई। हम यहां आए, उनसे शिकायत करने को कहा और वह मान गई। सांसद ने आरोप लगाया कि उन्‍हें पास की चौकियों से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली, जिसे वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में लाया गया है।”

भाजपा सांसद जसकौर मीणा का बयान
“हमारी सांसद रंजीता कोली, एक दलित लड़की सत्ता के लिए चुनी गई थी। वे उसके साथ ऐसा बर्ताव नहीं कर सकते। राजस्थान महिलाओं के खिलाफ अपराध को नहीं रोक सकता है और सीएम अपराधियों के हित में बयान देते हैं। हमारे सांसद की जान को खतरा है। मैंने इस मामले में जीरो आवर नोटिस दिया है इसे सदन में उठाया जाएगा।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper