भाजयुमो नेता की हत्या के मामले में कैसरबाग़ कोतवाली प्रभारी निलम्बित

लखनऊ ब्यूरो। राजधानी लखनऊ में सोमवार की देर रात भाजयुमो नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की चाकू से गोदकर हत्या के मामले में लापरवाही बरतने पर मंगलवार को कैसरबागकोतवाली प्रभारी को निलम्बित कर दिया गया। वहीं सुबह मृतक की पत्नी की ओर से हत्या की एफआईआर दर्ज करने के लिए तहरीर दी गई।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि परिजनों के मुताबिक मामले की शुरूआत ​बीते दिनों एक घटना से हुई थी, जिसमें पुलिस लापरवाही की बात सामने आयी है। इसलिए कैसरबाग थाना प्रभारी धीरेन्द्र कुशवाहा को मंगलवार की सुबह निलम्बित कर दिया गया।

वहीं मृतक की पत्नी प्रतिमा त्रिपाठी ने मंगलवार को दी गई तहरीर में बताया है कि अमीनाबाद के गगनी तालाब के पास उनका आवास है। 25 नवम्बर को छेड़खानी को लेकर पड़ोसियों से पति प्रत्यूष मणि त्रिपाठी का विवाद हुआ था। एक युवती ने उनकी फेसबुक आईडी पर दोस्ती करने के लिए फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थी। उन्होंने उसकी दोस्ती स्वीकार नहीं की, इसको लेकर झगड़ा हुआ था। बवाल पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर शांत करा दिया था। प्रतिमा के मुताबिक उन लोगों की तहरीर के बावजूद पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया, जिससे विरोधी पक्ष के हौसले और बुलंद हो गए।

सोमवार देर रात भाजयुमो नेता मोटर साइकिल से बादशाहनगर गए थे। इसी दौरान अज्ञात हमलावर उन पर चाकू से हमला कर गंभीर रुप से घायल कर फरार हो गये। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पहचान कर प्रत्यूष मणि को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

भाजयुमो नेता की मौत की खबर सुनते ही सैकड़ों समर्थक परिवार के साथ ट्रामा सेंटर पहुंच गए। परिवार के लोग भी पहुंचे। यह हंगामा मंगलवार सुबह तक चल चलता रहा। समर्थकों ने भाजयुमो नेता के हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की। इसको लेकर ट्रामा सेंटर में उन्होंने हंगामा भी किया। इसकी सूचना पर आईजी सुजीत पाण्डेय, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, एसएसपी कलानिधि नैथानी पहुंचे।

समर्थकों को शांत कराया गया। वहीं प्रदेश सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने भी मौके पर पहुंचकर नाराज लोगों को शांत कराया। उन्होंने कहा कि हत्यारों को कड़ी से कड़ी सख्त सजा मिलेगी। परिवार से जो मांग पत्र मिला है, उस पर सरकार उचित निर्णय लेगी। कानून व्यवस्था बिगाड़ने वालों पर सरका सख्ती से निपटेगी।

वहीं प्रतिमा त्रिपाठी ने कहा है कि परिवार की जान का खतरा है, इसलिए हमें सुरक्षा मुहैया करायी जाए। परिवार ने सरकार से मुआवजे तथा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिए जाने की भी मांग की। एसएसपी ने कहा कि हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए टीमें लगा दी गई हैं। दबिश जारी है जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper