भारतीय परंपरा में गुरु का विशेष महत्व: डॉ महेंद्र

लखनऊ। भारतीय परंपरा में गुरु परम्परा का विशेष महत्व है। भारत ने दुनिया को सिखाने का दायित्व निभाया। प्रथम गुरु माता-पिता और परिवार पाठशाला है। यह बातें शुक्रवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में अखिल भारतीय शैक्षिक महासंघ द्वारा आयोजित गुरु वंदन विचार गोष्ठी में ग्राम विकास राज्य मंत्री डॉ महेंद्र सिंह ने कही।

राज्य मंत्री ने कहा कि भारतीय दर्शन कहता है कि गुरु साक्षात देवता है, क्योंकि जो देता है उसे ही देवता कहा गया है। इस दौरान उन्होंने राम, कृष्ण, भगवान बुद्ध, महर्षि व्यास, वशिष्ठ के कार्यों का बखान किया और गुरु की महत्ता को स्थापित किया। उन्होंने कहा कि प्रकृति का संरक्षण आवश्यक है। वृक्षों की नीचे तप के बलपर ज्ञान की प्राप्ति का भारत में प्रमाण मिलता है। वैज्ञानिकों ने भी अपने शोध में माना है कि वृक्ष-वनस्पति संवाद करते हैं। उन्होंने कहा कि प्राचीनतम व वैज्ञानिक भाषा संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है। गुरु शिक्षा देकर शिष्य व समाज का कल्याण करता है। कहा कि वाणी व आचरण पर नियंत्रण आवश्यक है। चरित्रहीन मनुष्य मुदेज़् के समान होता है, उसकी लोक मान्यता शून्य हो जाती है।

शैक्षिक महासंघ के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री ओम गोपाल सिंह ने कहा कि गुरु-शिष्य परंपरा धूमिल होती जा रही है, इसे बचाना होगा। अधिकार मांगते हुए छात्र गुरु की गाड़ी फूंक रहे हैं, ऐसे छात्र जीवन में कुछ नहीं कर सकते। कहा कि जो झुकता है, वही उठता है। शिष्य-गुरु में विवाद नहीं, संवाद होना चाहिए। कैम्पस ज्ञान-विज्ञान का केंद्र बने, इसका ध्यान रखना होगा। उन्होंने बताया कि एक सवेज़् में 85 प्रतिशत लोगों ने गुरु को श्रेष्ठ बताया है।
शैक्षिक महासंघ में उच्च शिक्षा संवर्ग के उत्तर प्रदेश प्रभारी महेंद्र कुमार ने कहा कि 21वीं सदी में रोबोट सिस्टम शिक्षा व्यवस्था का चलन आ गया है, लेकिन गुरु का महत्व वही रहेगा, जो सदियों से है। रोबोट, गुरु का स्थान नहीं ले सकता। गुरु का महत्व कभी समाप्त नहीं हो सकता।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विवि के कुलपति एसपी सिंह ने कहा कि जिसके अंदर त्याग की भावना होगी, उसकी पूजा दुनिया करेगी। कहा कि शिक्षकों को स्वाध्याय करते रहना चाहिए, अन्यथा एक ऐसा समय आएगा कि शिष्य को कुछ नया देने के लिए उनके पास कुछ नहीं रह जायेगा। इस मौके पर विवि के सैकड़ों छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper