भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में मनाया गया विश्व पर्यावरण दिवस

बरेली 5 जून। “साँसे हो रही हैं कम, आओ पेड़ लगायें हम”, “पेड़ ही पेड़ लगाते चलो , धरती को स्वर्ग बनाते चलो” इन नारों के साथ भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आई.वी.आर.आई.) में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया। यह कार्यक्रम संस्थान के छात्र कल्याण कार्यालय द्वारा आयोजित किया गया था । इस अवसर पर संस्थान के छात्रों ने पर्यावरण जागरूकता रेली निकाली।

छात्र कल्याण अधिकारी डॉ एस. के. साहा के नेतृत्व में यह रेली संस्थान के मुख्य गेट से प्रारम्भ होकर पर्यावरण जागरूकता संदेश देते हुए स्वामी विवेकानंद सभागार में संपन्न हुई । डॉ साह ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा की पर्यावरण प्रदूषित होने से जीव-जंतु, जलवायु समेत सभी चीजें प्रदूषित हो रही है। अत: विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का एकमात्र उद्देश्य है कि लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जाय, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करें पेड़ों की कटाई ना करें।

इस अवसर पर संस्थान में आम, जामुन, लीची आदि के पौधे संयुक्त निदेशक, प्रसार शिक्षा डा. हरेन्द्र कुमार गुप्ता, संयुक्त निदेशक (कैडराड) डा. के. पी. सिंह, संयुक्त निदेशक प्रशासन श्री राकेश कुमार, परीक्षा नियंत्रक डा. ज्ञानेन्द्र कुमार सिंह, भेषज्य एवं विष विज्ञान के विभागाध्यक्ष डॉ. दिनेश कुमार, पशुधन उत्पाद प्रौद्योगिकी के विभागाध्यक्ष डा. एस.के. मेंदीरत्ता, वाणी प्राणी उद्यान के प्रभारी डा. अभीजीत पावडे़, दैहिकी एवं जलवायुकी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. वी. पी. मौर्या, परजीवी विज्ञान विभाग विभागाध्यक्ष डॉ. सुभाशीष बंध्योपाध्याय, पशु आनुवंशिकी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. भारत भूषण, छात्र कल्याण अधिकारी डॉ एस. के. साह द्वारा लगाए गए ।

इस अवसर पर संस्थान के जैविक उत्पाद विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. पल्लव चौधरी, डॉ असित दास, डॉ. अभिषेक, डॉ. विद्या सिंह डॉ. रघुवरन, डॉ. रोहित , उद्यान अनुभाग के श्री अशोक सहित अनुभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे ।

बरेली से एसी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper