भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान एवं राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र हिंसार ने संयुक्त रूप से लम्पी स्किन बीमारी का टीका विकसित किया

बरेली: भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान व राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र, हिसार द्वारा संयुक्त रूप से लम्पी स्किन बीमारी का टीका विकसित किया गया जिसको कल नई दिल्ली के कृषि भवन में आयोजित कार्यक्रम में माननीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर द्वारा श्री पुरषोत्तम रूपाला, माननीय केन्द्रीय मंत्री मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी एवं श्री कैलाश चौधरी माननीय केन्द्रीय कृषि एवं कल्याण राज्यमंत्री, भारत सरकार की उपस्थित में जारी किया गया।

इस अवसर पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक एवं सचिव डेयर डा. हिमाशुं पाठक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के पशु विज्ञान के उपमहानिदेशक डा. बी.एन. त्रिपाठी, सहायक उप महानिदेशक डॉ अशोक कुमार, संस्थान के निदेशक डा. त्रिवेणी दत्त तथा संयुक्त निदेशक शोध डा. जी. साई. कुमार उपस्थित रहे। यह जानकारी भारतीय पशु चिकित्सा अनुसन्धान संस्थान इज्जतनगर के निदेशक डा0 त्रिवेणी दत्त ने लखनऊ ट्रिब्यून से वार्ता के अवसर पर दी।

उन्होंने कहा की देश के पशुधन के लिए बड़ी राहत प्रदान करने के लिए और पशुओं को लम्पी स्किन रोग से बचाव हेतु स्वदेशी वैक्सीन (लम्पी- प्रो वैक-इंड/ Lumpi-ProVacInd) को कल कृषि भवन नई दिल्ली से लांच किया गया । यह वैक्सीन राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केंद्र, हिसार (हरियाणा) ने भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, इज्जतनगर (बरेली) के सहयोग से बनाई है। यह वैक्सीन, लम्पी बीमारी के निदान के लिए मील का पत्थर साबित होगी।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper