भारतीय रेल देश की लाइफ लाइन: राजनाथ सिंह

लखनऊ: देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को उत्तर रेलवे के रेलवे प्रादेशिक प्राइमरी कोआपरेटिव बैंक लिमिटेड के 100 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में चारबाग रविंद्रालय में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि भारतीय रेल देश की लाइफ लाइन है। जिस पर रेल ठप होगी उस दिन देश के कई काम रुक जाएगे। गृह मंत्री ने कहा कि मैं रेलवे की समस्या के लिए जैसा भी हो सकेगा उसका समाधान कराने का प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा कि रेलवे प्रादेशिक प्राइमरी को-ऑपरेटिव बैंक लागतार सौ वर्ष से काम कर रही है। इसका मतलब इसकी बुनियाद बहुत मजबूत है।

कॉपरेटिव बैंक देश की आर्थिक व्यवस्था से जुड़ा हुआ है। को-ऑपरेटिव बैंक सीधे जन सामान्य से जुड़ा होता है। उन्होंने कहा कि 1969 में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया था। जिससे लोगों को बड़ी उम्मीद थी, लेकिन वह पूरी नहीं हुई है। इसके बाद भी आज जनता की उम्मीद पर काम किया जा रहा है। हम समझते हैं कि बैंकों का राष्ट्रीयकरण नही बल्कि सरलीकरण करना चाहिए। जिस पर हम काम कर रहे है। उन्होंने कहा कि को-ऑपरेटिव बैंक अन्य बैंकों से कम ब्याज पर लोन देते हैं।

राहुल गांधी के पास नहीं है कोई अहम मुद्दा, इसलिए गैर जरूरी मुद्दों पर मचा रहे हैं हो हल्ला: राजनाथ

इस दौरान राजनाथ सिंह ने सीबीआई मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी घेरा। राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस बेकार में सीबीआई विवाद पर समय खराब कर रही है। कांग्रेस के पास जनहित के कोई मुद्दे नहीं है, इसलिए वह इस तरह के गैर मुद्दे उठा रहे हैं। आज कांग्रेस सीबीआइ के जिस मामले को लेकर हल्ला कर रही है, उसकी तो जांच चल रही है। कम से कम उनको इस मामले की जांच रिपार्ट आने तक का तो इंतजार करना चाहिए। इसके साथ ही मामला सुप्रीम कोर्ट में भी है। अब कांग्रेस अगर खुद को सुप्रीम कोर्ट से ऊपर समझती है तो हम कुछ नहीं कह सकते हैं। उन्होंने कहा कि जनता से जुड़े किसी मामले को लेकर कांग्रेस के नेता कभी सड़क पर नहीं उतरते।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper