भारत का एकमात्र रेलवे स्टेशन, जहाँ प्रवेश के लिए लगता है ‘वीजा’

आम तौर पर आपने स्टेशन पर जाने के लिए सिर्फ प्लेटफार्म टिकट या यात्रा टिकट ही खरीदा होगा। लेकिन हमारे देश में एक रेलवे स्टेशन ऐसा भी है जहाँ जाने के लिए आपके पास “वीजा” होना जरुरी है। इस बात को जान कर आपको थोड़ा आश्चर्य तो हुआ होगा लेकिन सच यही हैं। अगर आप बिना वीजा इस स्टेशन पर जाते हैं तो ये गैर कानूनी माना जाएगा।

अटारी देश का एकमात्र ऐसा अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन हैं जो वातानुकूलित हैं । यहाँ जाने के लिए पाकिस्तानी वीजा होना जरुरी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यदि किसी भी देश का नागरिक बिना वीजा के किसी भी तरह इस स्टेशन में घुसने की कोशिश करता हैं तो 14 फॉरेन एक्ट के तहत सजा का प्रावधान हैं जिसकी जमानत भी बड़ी मुश्किल से हो पाती हैं।

इस रेलवे स्टेशन पर कुली नहीं होते उन्हें यहाँ काम करने नहीं दिया जाता है। इसलिए यात्रियों को अपना सामान खुद उठाना पड़ता है जिसके लिए वहा ट्रालियां उपलब्ध रहती हैं। यहाँ खान-पान की पूरी व्यवस्था है और खाना भी बहुत अच्छा मिलता है।

इस रेलवे स्टेशन की हर पल की जानकारी रेलवे मुख्यालय (बड़ौदा हाउस, दिल्ली) में होती है। अटारी स्टेशन पर सुरक्षा में चौबीस घंटे जवान तैनात रहते हैं। देश की सबसे वीवीआईपी ट्रेन समझौता एक्सप्रेस यहीं से चलती है। यात्रियों द्वारा रेलवे टिकट खरीदने पर पासपोर्ट नंबर लिखा जाता है और उन्हें कन्फर्म सीट दी जाती है।

अगर किसी कारण ट्रेन लेट हो जाती है तो भारत-पाकिस्तान दोनों मुल्कों में लेट होने की वजह बताई जाती है और रजिस्टर पर एंट्री होती है। इसके अलावा स्टेशन पर रहती है कड़ी सुरक्षा, पंजाब पुलिस रेलवे स्टेशन 24 घंटे पहरा देती है। रेलवे स्टेशन आरपीएफ, जीआरपी, बीएसएफ समेत खुफिया व सुरक्षा एजेंसियों के पहरे में रहता है।

पर्यटक दूर से ही इस रेलवे स्टेशन को देख सकते हैं लेकिन इसके अंदर नहीं जा सकते । यहाँ फोटोग्राफी करना मना है। अगर रेलवे स्टेशन के अंदर जाना है तो आपको गृहमंत्रालय के अलग-अलग विभागों से इजाजत लेनी होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper