भारत के इस जगह पर था पारस पत्थर, यहीं से लंका बनाने के लिए रावण ले गया था सोना

राजस्थान। रावण को कौन नहीं जानता है। लेकिन उसका संबंध राजस्थान के एक गाँव से था यह शायद आप नहीं जनते होंगे। अलवर शहर से करीब 3 किमी दूर स्थित एक गांव का संबंध लंकापति रावण से बताया जाता है। जैन शास्त्रों की मानें तो रावण यहां भगवान शंकर के स्वरूप पार्श्वनाथ की पूजा करने आया था। यहीं उसे तपस्या के बाद पारस पत्थर मिला था। मान्यता है कि पारस पत्थर के संपर्क से लोहा भी सोना बन जाता था।

अलवर शहर से तीन किलोमीटर दूर रावण देहरा गांव में आज भी प्राचीन जैन मंदिर के भग्नावशेष मिलते हैं। कहते हैं इस मंदिर का निर्माण रावण ने खुद कराया था। रावण और उसकी पत्नी मंदोदरी जब यहां पार्श्वनाथ की पूजा में लीन थे, तभी इंद्रदेव प्रकट हुए और पार्श्वनाथ भगवान की पूजा कर चमत्कारिक पारस पत्थर का वरदान लेने को कहा।

इसे भी पढ़िए: नागिन के श्राप से बचने के लिए लोग घरों में नहीं लगाते दरवाजे

इसके बाद रावण ने उनकी पूजा कर पारस पत्थर प्राप्त किया। इस चमत्कारिक पत्थर के संपर्क में लोहा भी सोना बन जाता था। रावण ने लोहे से सोना बनाया और स्वर्ण नगरी का निर्माण कराया। रावण देहरा गांव के जैन मंदिर की मूर्तियों को बीरबल मोहल्ले में स्थित जैन मंदिर में रखा गया है। इस मंदिर को रावण पार्श्वनाथ मंदिर कहा जाता है।

रावण देहरा में पूजन करने से ही उसे इंद्रजीत जैसा पुत्र मिला। इंद्रजीत ने इंद्रप्रस्थ नगर बसाया था। रावणदेहरा में जैन मंदिरों के अवशेष अब तक मौजूद हैं। इनका रखरखाव प्रशासन की ओर से नहीं किए जाने के कारण यहां एकसाथ 52 जिनालयों के खंडहर, परिसर में बने अन्य मंदिर प्राचीन मंदिरों के खंडहर हैं। मंदिरों का ऊपरी भाग प्राचीन काल की विशेष वास्तुकला को दर्शाता है। रावण देहरा गांव प्रतापबंध से आगे करीब दो किलोमीटर दूर है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper