भारत के बीएनपीएल कारोबार के तीन साल में 40 अरब डॉलर पर पहुंचने का अनुमान

नयी दिल्ली। देश के फिनटेक क्षेत्र में बाई नाउ पे लैटर (बीएनपीएल) कारोबार अगले तीन साल में 40 अरब डॉलर का हो सकता है। प्रबंधन सलाह कंपनी रेडसीअर के मुताबिक देश की फिनटेक श्रेणी में फंडिग नौ गुणा बढ़ी है और 2021 में इसे तेजी से अपनाया भी गया है। यह 65 प्रतिशत की वार्षिक दर से बढ़ रहा है। रेडसीअर के मुताबिक कई स्टार्टअप और फिनटेक प्लेटफॉर्म बीएनपीएल सेवायें देने वाले प्लेटफॉर्म सिंपल, लेजीपे, जेस्टमनी, ईपेलैटर, फ्लिपकार्ट, पेटीएम, फोनपे और अमेजन इंडिया से जुड़े हैं।

रेडसीअर के एसोसिएट पार्टनर मृगांक गुटगुटिया ने कहा कि अधिकतर ग्राहक अक्सर बीएनपीएल सुविधा का लाभ उठाते हैं और वे अक्सर समय पर भुगतान करते हैं। उन्होंने कहा कि ग्राहकों के अनुभव को बेहतर बनाने के लिये कुछ बदलाव फिर भी जरूरी हैं। क्रेडिट लिमिट बढ़ाकर, नगद निकासी सुविधा देकर और अधिक कारोबारियों से जुड़कर ग्राहकों के अनुभव को बेहतर बनाया जा सकता है।

गुटगुटिया ने कहा कि नियमन भी जरूरी है क्योंकि कई देशों में बीएनपीएल के नियमन के प्रयास शुरू हो गये हैं ताकि उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा हो सके और भुगतान न करने के मामलों में कमी लायी जा सके। बीएनपीएल से अब कई उत्पाद जुड़ गये हैं और कई कारोबारी मॉडल भी उभरे हैं। उपभोक्ता अभी आमतौर पर ऑनलाइन खरीदारी, फूड डिलवरी, बिल के भुगतान, पर्यटन के लिये ऑनलाइन भुगतान, ई हेल्थ, एडटेक और वाहन बुकिंग में बीएनपीएल का इस्तेमाल करते सबसे अधिक करीब 73 प्रतिशत उपभोक्ता ऑनलाइन खरीदारी में बीएनपीएल का उपयोग करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper