भारत ने चीन के करीबी दोस्त नॉर्थ कोरिया की मदद की

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के बीच भारत दूसरे मुल्कों की संभव सहायता से पीछे नहीं हट रहा है। वह चाहे दुश्मन देश के करीबी ही क्यों न हों। अब हमारे देश ने नॉर्थ कोरिया को 10 लाख डॉलर की मेडिकल सहायता भेजी है। ऐसा वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन से मिले अनुरोध के बाद किया गया है। विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। बता दें कि नॉर्थ कोरिया चीन का करीबी है और चीन से हमारे रिश्ते इस वक्त कैसे चल रहे हैं वह किसी से छिपा नहीं है।

मंत्रालय ने कहा कि भारत, उत्तर कोरिया में मेडिकल उपकरणों/सामग्री की कमी और वहां के हालात के प्रति संवेदनशील है और उसने टीबी की दवा के रूप में 10 लाख डॉलर की मानवीय सहायता प्रदान करने का फैसला लिया। मंत्रालय ने कहा कि यह सहायता उत्तर कोरिया में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा चलाए जा रहे क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत होगा। दवाओं की खेप उत्तर कोरिया में भारत के राजदूत अतुल मल्हारी ने डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में देश के अधिकारियों को सौंपी।

खुद से जुड़ी चीजों को सीक्रेट रखने में सबसे आगे रहनेवाला देश नॉर्थ कोरिया अबतक दावा करता रहा है कि उसके यहां कोरोना वायरस का एक भी सिंगल मामला नहीं है। हालांकि, उसके दावे पर पूरी तरह यकीन करना मुश्किल है। पिछले दिनों ही घबर आई थी कि वहां मास्क नहीं पहनने पर तीन महीने की मजदूरी की सजा दी जा रही है। सवाल उठता है कि अगर कोरोना केस हैं ही नहीं तो मास्क की जरूरत ही क्या पड़ी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper