भारत बंद के दौरान दुकानें बंद करवाते दिखे भाजपा विधायक

आगर-मालवा: एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सोमवार को भारत बंद के विरोध में सबसे ज्यादा जान-माल का नुकसान प्रदेश में हुआ है। हिंसक आंदोलन के दौरान पांच लोगों की मौत हो गई। मंगलवार को आंदोलन कर रहे कुछ लोगों का वीडियो वायरल हुआ।

वीडियो में आगर-मालवा में भाजपा विधायक गोपाल परमार भी दिख रहे हैं, जो अपने क्षेत्र में आंदोलनकारियों के साथ मिलकर दुकानें बंद करवाते नजर आ रहे हैं। सोमवार को हुए भारत बंद आंदोलन में भीड़ को उकसाने में कई राजनीतिक दलों के नेताओं के चेहरे सामने आए हैं। मुरैना में जहां भीड़ में कुछ कांग्रेस पार्षद एवं नेताओं के नाम सामने आए हैं, वहीं आगर-मालवा में भाजपा विधायक गोपाल परमार ने भीड़ में शामिल होकर पुलिस की मौजूदगी में दुकानें बंद करवाई।

दुकान बंद कराने को लेकर उनका दुकान से हुई कहासुनी की वीडियो भी सामने आई है। दुकानदार द्वारा दोबारा दुकान का शटर खोलने पर भाजपा विधायक लौटकर फिर दुकान पर जाते हैं और दुकानदार को धमकी भरे अंदाज में दुकान बंद करने के लिए कहते हैं। वायरल वीडियो में दुकानदार की पत्नी और मासूम बच्ची भी वहीं मौजूद थी। जो कि इस पूरे वाकिये से बुरी तरह डरी हुई दिख रही है। भाजपा विधायक के उपद्रवियों के साथ बाजार बंद कराए जाने के मामले में प्रदेश भाजपा ने चुप्पी साध ली है।

इस पूरे मामले पर भाजपा विधायक गोपाल परमार को कहना है कि मेरा क्षेत्र एससी-एसटी का है। इसलिए जाना मजबूरी है। भीड़ में हुडदंगी शामिल थे, जो माहौल खराब करना चाहते थे। जिस दुकान का वीडियो वायरल हुआ है, उसको जानबूझकर बंद नहीं किया जा रहा था। जिससे स्थिति बिगड़े। मैने स्थिति संभालने के लिए दुकान के शटर नीचे किए। जिससे यदि कोई कुछ करे तो दुकान को नुकसान नहीं पहुंचाए। मैने सकारात्मक भूमिका निभाई जिससे अप्रिय स्थिति नहीं होने दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper