भारी बारिश से प्रदेश में बाढ़ के हालात

लखनऊ: एक सप्ताह से हो रही मूसलाधार बारिश से राज्य के कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात हो गये हैं। वष्ाजनित हादसों में पांच दिनों में अब तक प्रदेश में कुल 92 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 96 लोगों घायल होने की सूचना है। बारिश के दौरान 40 पशुओं की भी मौत हुई है। 470 कच्चे-पक्के मकान गिरे हैं। इस बीच मौसम विभाग ने पूर्वी तथा पश्चिमी यूपी में 48 घंटों में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। मंगलवार को बारिश से बाराबंकी, हरदोई, कानपुर तथा लखनऊ में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गये। पिछले 24 घंटे के दौरान लखनऊ, सीतापुर, बाराबंकी, गोंडा व कानपुर समेत कई जिलों में भारी बारिश होने की सूचना है।

लखनऊ में दो दिन से हो रही बारिश से इंदिरानगर, डालीगंज, गोमतीनगर, जानकीपुरम, आलमबाग, राजाजीपुरम के अलावा पुराने लखनऊ के अधिकांश क्षेत्र में जलभराव है। यमुना, गंगा, घाघरा और सरयू का जल स्तर बढ़ने से तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात है। सरयू का जलस्तर बढ़ने से बस्ती के करीब 40 गांव को बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। बनबसा और हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने और मूसलाधार बारिश से नदियों का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। गोण्डा के करनैलगंज के नैपुरा, परसावल सहित चरपुरवा गांवों में पानी घुस गया है। बाराबंकी जिले के गांवो में बाढ़ का पानी लोगों के घरों में घुस गया जिससे 40 परिवारों को बांध पर शरण लेनी पड़ी। अयोध्या में सरयू भी खतरे के निशान को पार कर गयी है। महेशपुर, दुर्गागंज, जैतपुर, तुलसीपुर, साकीपुर, दत्त नगर, गोकुला, इन्दरपुर के लोगों की नजरे उफनाई सरयू पर टिकी है।

मुख्य सचिव डा. अनूप चन्द्र पाण्डेय ने सभी मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को बारिश के मद्देनजर लोगों के जानमाल की सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये है। बस्ती में मंगलवार को सरयू नदी के तेज कटान से बस्ती जिले के 40 गांवों को बाढ़ से खतरा पैदा हो गया है। सरयू नदी खतरे के निशान 92.730 के बदले 92.750 पर बह रही है। नदी खतरे के बिन्दु से 20 सेमी ऊपर बह रही है। बहराइच के रामगांव क्षेत्र के नौतला गांव में मंगलवार सुबह करीब छह बजे बारिश के चलते एक मकान की कच्ची दीवार ढ़ह गयी। मलबे में घर में सो रहे राधे के 13 वर्षीय पुत्र लौलेश कुमार की मलबे में दबकर मृत्यु हो गयी।कानपुर में बारिश के चलते शहर का तीन चौथाई हिस्सा जलमग्न है।

नाले और सीवर लाइन उफानाये है, जिससे घरों मे पानी भर गया है। फरुखाबाद जिले के शहर कोतवाली क्षेत्र में मंगलवार को वष्ा के दौरान दुकान का छज्जा गिरने से मलबे में दबकर एक युवक की मृत्यु हो गई तथा एक फल विक्रेता गम्भीर रुप से घायल हो गया। इलाहाबाद में गंगा खतरे के निशान 84.734 से काफी नीचे बह रही हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 78.40, छतनाग में 77.08 और नैनी में 77.82 दर्ज किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper