भीगे या सूखे कैसे बादाम हैं बेहतर? बादाम खाना आपको दोनों ही स्थितियों में देगा फायदा

हर साल की शुरुआत में हममें से ज्यादातर लोग न्यू इयर रेजॉलूशन लेते हैं। ये रेजॉलूशन हम सभी के लिए अलग-अलग होते हैं। कुछ लोग सेविंग बढ़ाने का रेजॉलूशन लेते हैं तो कुछ लोग पढ़ाई करने का। वहीं ज्यादातर लोग अपनी फिटनेस को मेंटेन रखने की प्लानिंग करते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से हैं, जिन्होंने इस साल खुद को फिट रखने का रेजॉलूशन लिया है तो यहां बताई गई बात आपके लिए बहुत काम की साबित होनेवाली है…

बड़ा आसान मगर जरूरी काम
अगर आपको लगता है कि आपको अपना वेट घटना है या फिर अपना वेट बढ़ाना है…आपकी जरूरत जो भी हो लेकिन बादाम खाना आपको दोनों ही स्थितियों में फायदा देगा। बादाम में ऐसी कौन-सी खूबियां है, उनके बारे में हम यहां बात करेंगे। दरअसल, बादाम विटमिन-ई, मैग्निशियम, गुड फैट, फाइबर्स और प्लांट प्रोटीन से भरपूर होता है। बादाम खाने से हमारे शरीर ताकत तो मिलती है लेकिन गैरजरूरी फैट नहीं बढ़ता है। साथ ही हमारा एनर्जी लेवल भी हाई रहता है और रोजमर्रा के कामों की थकान हम पर हावी नहीं हो पाती है।

बेहतरीन स्नैक
दोपहर के स्नैक या नाश्ते में आप बादाम खा सकते हैं। अब आपको सूखे बादाम खाने हैं या भिगोकर रखे हुए खाने हैं यह फैसला आपको ही लेना होगा। अब हम जानते हैं आखिर सूखे और भिगोकर रखे हुए बादाम में क्या अंतर होता है? दरअसल, सूखे बादाम विटमिन-ई से भरपूर होते हैं। इन्हें खाने से हमारी बॉडी के डेड और क्रैक्ड सेल्स को पोषण मिलता है, जिससे हमारी स्किन ग्लोइंग बनती है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि सूखे और छिलके सहित बादाम आप तभी आराम से डायजेस्ट कर सकते हैं, जब आप बहुत अधिक फिजिकल वर्क करते हों। क्योंकि इन्हें अच्छी तरह पचाने के लिए डायजेशन प्रॉसेस अच्छी होना जरूरी है। अगर आपको पाचन संबंधी समस्या है तो इस तरह बादाम खाने से पहले डायटीशियन से बात कर लें।

बादाम भिगोकर खाने के फायदे
आपने सुना होगा या पढ़ा होगा कि ज्यादातर लोग बादाम को भिगोकर खाने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि बादाम का छिलका आराम से उतारा जा सके। बादाम का छिलका बादम सीड के लिए प्रोटेक्टिव स्किन का काम करता है। इसमें टैनिन नाम का तत्व होता है, जो इसमें मौजूद मिनरल्स, फैट और विटमिन्स को बाहर निकलने से रोकता है। जब इसका छिलका हटा दिया जाता है तो आंतों को इसे डायजेस्ट करने में आसानी होती है। साथ ही इसका पूरा पोषण हमारे शरीर को मिल पाता है। क्योंकि बादाम के जिन कणों पर छिलका लगा होता है, उन्हें डायजेस्ट करने में हमारी आंतों को अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है।

बादाम से मिलनेवाले सेहत संबंधी फायदों के बारे में डायटेटिक्स, मैक्स हेल्थकेयर, दिल्ली की रीजनल हेड ऋतिका समंदर का कहना है कि बादाम हमारे मुख्य आहार का जरूरी हिस्सा है। हम अपने दिन की शुरुआत में या दोपहर के स्नैक्स में मुट्ठीभर बादाम खा सकते हैं। पिछले दिनों हुए एक शोध में कहा गया था कि बादाम खाने से हमारे शरीर में मौजूद बैड कॉलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है। मेडिकल लाइन में इसे एलडीएल के नाम से जाना जाता है।

तो अगर आप अपनेआप को हेल्दी और फिट रखना चाहते हैं तो अपनी डेली डायट में बादाम को जरूर शामिल करें। ताकि आपकी फिटनेस बनी रहे और कभी भी थकान की वजह से आपके काम प्रभावित ना हों। अगर आप एक महीने तक लगातार रोज बादाम खाएंगे तो अपनी सेहत और एनर्जी लेवल में आपको खुद ही फर्क महसूस होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper