भेष बदलकर कावड़ यात्रा में क्यों घुसे मुस्लिम युवक?

सहारनपुर में देहरादून रोड पर डाक लेने जा रहे देहात कोतवाली के पैरोकार को कांवड़ियों के वेश में बाइक सवार दो युवकों ने टक्कर मार दी। जिससे पैरोकार घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों युवकों से पूछताछ की तो सनसनीखेज जानकारी निकल कर बाहर आई, यह युवक मुस्लिम समुदाय के निकले जो सिर्फ मस्ती के लिए कांवड़ियों के वेश में बाइक पर घूम रहे थे। ये कावड़ियों के भेष में महिलाओं को छेड़ते थे और अश्लील हरकतें किया करते थे। बहरहाल पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है।

दरअसल मंगलवार की शाम को देहात कोतवाली में तैनात पैरोकार रफी बाइक से एसएसपी आवास पर डाक लेने जा रहा था। जैसे ही वह एसएसपी आवास के निकट पहुंचा तभी गले में भगवा अंगोछा लपेटे बाइक सवार दो युवकों ने उसकी बाइक में टक्कर मार दी। जिससे रफी सड़क पर गिर पड़ा और घायल हो गया। कांवड़ ड्यूटी में लगी क्यूआरटी ने सिपाही को संभाला और दोनों बाइक सवारों को रुकवा लिया। जब दोनों के नाम पूछे तो दोनों ने पुलिस को अपने नाम ओसामा निवासी लिंक रोड नगर कोतवाली तथा तैय्यब हासिम निवासी पक्का बाग रायवाला थाना मंडी बताए।

उन्होंने बताया कि एक कांवड़ शिविर से और यह भगवा अंगोछे उन्होंने हासिल किए थे। जिसे पहन वह कांवड़ मार्ग पर घूम रहे थे। जनकपुरी थाना प्रभारी सुशील कुमार दुबे ने बताया कि दोनों युवक दूसरे समुदाय के होते हुए भी भगवा अंगोछा गले में डाल कांवड़ियों के वेश में कांवड़ मार्ग पर बाइक से घूम रहे थे। उनके पास बाइक के कागजात भी नहीं मिले। दोनों के खिलाफ सिपाही रफी की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस ने दोनों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है।

यह बहुत गम्भीर बात हैं, कि दूसरे समुदाय के लोग कावड़ियों के भेष में भगवा अगोछे डालकर घूम रहे हैं, और जगह-जगह मारपीट और लूटपाट कर रहे हैं, महिलाओ के साथ अश्लील हरकतें कर रहे हैं जिसकी वजह से हिन्दू बदनाम हो रहे हैं, पुलिस को ऐसे लोगो को पहचान कर सख्त कारवाई करनी चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper