मजबूरी में फटी जींस पहनते थे सलमान खान, 23 साल पहले ऐसे शुरू किया था रिप्ड जींस का ट्रेंड

उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हाल ही में महिलाओं के रिप्‍ड जींस पहनने पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने कहा था कि, महिलाएं रिप्‍ड जींस पहन कर घर पर बच्‍चों को सही माहौल नहीं दे सकती हैं। उनके इस बयान पर विवाद हो गया है। ट्विटर पर रिप्ड जींस के फैशन के समर्थन में ट्रेंड चल पड़ा है और कई सितारे भी इस ट्रेंड को फॉलो करते हुए रिप्ड जींस पहनकर अपनी फोटो शेयर कर रहे हैं जिनमें कंगना रनोट जैसे सेलेब्स भी शामिल हैं।

वैसे जो रिप्ड जींस आज चर्चा में है उसका ट्रेंड 23 साल पहले बॉलीवुड में सलमान खान ने शुरू किया था। लेकिन बहुत कम लोग ये बात जानते है कि फटी जींस पहनना फैशन नहीं बल्कि सलमान की मजबूरी थी।

मजबूरी में पहनते थे फटी जींस

सलमान खान को रिप्ड जींस का ट्रेंड सेट करने के लिए जाना जाता है। उनके अनुसार, वे मजबूरी में फटा जींस पहनते थे, लेकिन लोगों ने उसे ट्रेंड बना लिया। इस बारे में उन्होंने एक किस्सा भी सुनाया था। दरअसल, जब वे सिंधिया स्कूल में पढ़ते थे तो उनकी मां के छोटे भाई, जिन्हें वे टाइगर अंकल बुलाते थे, ने जर्मनी से उन्हें एक रेंगलर का जींस भेजा था। उस जींस को वे कॉलेज के समय तक पहनते रहे और वह फट गया। फटने के बावजूद भी वे उस जींस को पहनकर कॉलेज जाते थे। सलमान बताते हैं कि उनके पास उस वक्त एक-दो जींस ही थे और उन्हें मजबूरी में फटा जींस पहना पड़ता था, लेकिन लोगों को ये फैशन लगा और ट्रेंड चल निकला।

सलमान के गाने ने कर दिया ट्रेंड को और पॉपुलर

जब सलमान ने देखा कि उनका फटी जींस पहनने का ट्रेंड जोर पकड़ सकता है तो उन्होंने इसे और भुनाने के लिए 23 साल पहले 1998 में आई फिल्म ‘प्यार किया तो डरना क्या’ में फिल्माए गाने ‘ओ-ओ जाने जाना’ में अपनाया। इस गाने में सलमान शर्टलेस थे और रिप्ड जींस पहने हुए थे। गाना तो पॉपुलर हुआ ही साथ ही इस ट्रेंड ने युवाओं को भी अपनी गिरफ्त में ले लिया।

खबरें और भी हैं…
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper