मजेदार जोक्स : एक दिन पति को पुराने कागजातों में पत्नी के कक्षा 8 का रिपोर्ट कार्ड हाँथ लगा जिसमे उसके चरित्र…

इस भौतिकतावादी संसार में ख़ुशी के मायने बदल गए हैं, लोग ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना और अधिक से अधिक सुख सुविधा के साधन जुटाने में ही ख़ुशी समझते हैं। जबकि ये चीजे ख़ुशी का सिर्फ बाहरी दिखावा भर हैं।मनुष्य का वास्तविक स्वभाव है- प्रेम-प्रसन्नता, सदभावपूर्वक शांति से जीना, दिखावटी, बनावटी बनकर जीवन यापन करना किसी मूर्खता से कम नहीं है। क्रोध से भरा हुआ, चिड़चिडा बनकर, ईर्ष्या-निंदा, चुगली वाला स्वभाव मनुष्यता की निशानी नहीं है।

मनुष्यता तो इसमें है कि किसी निराश-हताश के जीवन में आशा का संचार करते हुए उसके चेहरे पर मधुमय मुस्कान बिखेर देना, किसी गिरते को उठा देना, भटके हुए को राह दिखा देना यह मनुष्य का स्वभाव है और जब मनुष्य अपने स्वभाव में रहता है तो उसे सज्जनता कहा जाता है। और यदि वह स्वभाव के विपरीत है तो उसमें दुर्जनता आते भी देर नहीं लगती।

वही अगर देखा जाये तो एक सच यह भी है की इस दुनिया में हर एक मनुष्‍य के जीवन में अगर खुशियों का संचार होता है तो दुख भी आना लाजमी है, इतना अवश्‍य है कि इस दुख को सामना करने के लिये हमेशा तैयार रहना ही असली बुद्धिमानी रहती है इसिलिये हम लोगों का हंसना बहुत ही जरूरी है, क्‍योंकि हंसने शरीर में एक ऐसी ऊर्जा का संचार होता है जिससे हमे आने वाले संकटों से झूझने की शक्ति प्रदान होती है। इसी क्रम आज हम आप लोगों हंसाने के लिये कुछ नाये प्रकार के चुटकुले लेकर आये है।

1.एक नौजवान भिखारी ने एक हसीना से खाना मांगा उसने उस पर तरस खाकर
उसे भरपेट खाना खिलाया। भिखारी ने कहा – इंसान सिर्फ रोटी खाने से जिंदा नहीं रहता और कुछ भी दो ना। हसीना अब और क्या चाहिए ? नौजवान – भिखारी क्या तुम मेरे साथ ,घर बसा सकती हो?

2.जज ने गवाह से कहा – जब इस स्त्री की अपने पति के साथ
लड़ाई हुई तो तुम वहां मौजूद थे ?गवाह – जी हां लड़ाई के वक्त मैं वहां खड़ा था।
जज – तो तुम गवाही के तौर पर कुछ कहना चाहोगे। गवाह – हुजूर यही कहना चाहूंगा कि ,मैं कभी शादी नहीं करूंगा।

3.एक आदमी की नयी-नयी शादी हुई फिर भी उसे घर
जाने की कोई जल्दी ना थी वह देर तक ऑफिस में ही
रहता था, एक बार उसके बॉस ने पूछा–क्या बात है?
आदमी–सर मेरी बीवी भी जॉब करती है और जो घर जल्दी पहुंचेगा ,उसी को सारा खाना बनाना पड़ता है
और बर्तन भी साफ करने पड़ते है और दस दिन के लिए
कामवाली बाई भी अपने घर गयी हुई है।

4.जिंदगी में जब आपको कोई रास्ता दिखाई न दे
कोइ मंजिल दिखाई न दे ,कोइ अपना दिखाई न दे,
तब मेरे साथ आना ,हम Eye स्पेशलिस्ट के पास चलेंगे.

5.दुनिया में 3 तरह के लोग होते हैं, आयुर्वेदिक-मतलब बोलचाल में बहुत बढ़िया लेकिन इमरजेंसी में काम नहीं आते.
एलोपैथिक-मतलब इमरजेंसी में यही काम आते हैं
लेकिन कब क्या साइड इफेक्ट दिखा दे, भरोसा नहीं
होम्योपैथिक-मतलब वैसे तो कोई काम के नहीं होते
लेकिन साथ रहते हैं तो अच्छा लगता है.

6.लड़की–पड़ोस वाली आंटी मुझे बहुत तंग करती थी
जब भी किसी की शादी होती वो मेरी गाल खींच कर
कहती, अब तुम्हारी बारी है ,सहेली–अच्छा!
लड़की–फिर मैंने उनकी ये आदत ख़त्म करवा दी ,सहेली–कैसे?
लड़की–जब भी कोई मर जाता तो मैं उनकी गाल खींच ,कर कहती, अब आप की बारी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper