मदरसा सर्वेक्षण के खिलाफ मुस्लिम केंद्रित दल जुटाएंगे समर्थन

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में मुस्लिम केंद्रित पार्टियां अब एक अभियान शुरू करेंगी और मदरसों के सर्वेक्षण का विरोध करने के लिए लोगों को एकजुट करेंगी। इस पहल का हिस्सा बनने वाली पार्टियों में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम), पीस पार्टी और राष्ट्रीय उलेमा परिषद शामिल हैं।

एआईएमआईएम की राज्य इकाई के अध्यक्ष शौकत अली पहले से ही इस मुद्दे पर मुस्लिम समुदाय के लोगों को जुटाने और पार्टी कैडर को तैयार करने के लिए विभिन्न जिलों में बैठकें कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मदरसों के सर्वेक्षण को ‘मिनी-एनआरसी’ करार दिया है और आरोप लगाया है कि यूपी सरकार एक सर्वेक्षण के नाम पर मुस्लिम समुदाय को ‘परेशान’ कर रही है।

पीस पार्टी के प्रमुख मोहम्मद अयूब ने कहा कि पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने मदरसा सर्वेक्षण पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार के आदेश पर समुदाय को जागरूक करने के लिए पूर्वी यूपी के जिलों में जागरूकता अभियान शुरू किया है। उन्होंने कहा कि यह इस मुद्दे पर हिंदू और मुस्लिम समुदायों का ‘ध्रुवीकरण’ करने की योजना है।

उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश सरकार जानती है कि मुस्लिम समुदाय के कमजोर वर्ग के लोग अपने बच्चों को नियमित स्कूलों में प्रवेश देने के लिए वित्तीय स्थिति में नहीं हैं। दान की मदद से, मदरसा प्रबंधन छात्रों को मुफ्त शिक्षा, भोजन और आवास की सुविधा देता है। मुफ्त शिक्षा हर बच्चे के लिए सरकार की संवैधानिक जिम्मेदारी है। सरकार अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के बजाय मदरसों को बंद करने की कोशिश कर रही है।”

राष्ट्रीय उलेमा परिषद (आरयूसी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना आमिर रशदी मदनी ने कहा कि राज्य भर के मदरसों के सर्वेक्षण को लेकर मुस्लिम समुदाय में बेचैनी है।
उन्होंने कहा, “मदरसा चलाने वाले मुस्लिम निकायों और संगठनों को राज्य सरकार के आदेश का विरोध करने के लिए हाथ मिलाना चाहिए। यह मुस्लिम समुदाय के खिलाफ एक साजिश है और हमें मदरसों को बंद करने की सरकारी योजना को चुनौती देने के लिए एक कार्य योजना तैयार करनी होगी।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper