मप्र के कई इलाकों में छाया घना कोहरा, बढ़ी ठिठुरन

भोपाल। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश एवं उत्तराखंड में हो रही जोरबार बर्फबारी के चलते उत्तर भारत के साथ-साथ मध्‍यभारत में भी शीत-लहर का असर बढ़ गया है। यहां तक कि मध्‍यप्रदेश के अधिकांश इलाके सोमवार को घने कोहरे के आगोश में हैं।

जानकारी के अनुसार राजधानी भोपाल सहित सूबे के कई इलाकों में सोमवार सुबह आसमान में छाए घना कोहरा से जहां जनजीवन प्रभावित हुआ वहीं यह मौसम खेतों में खड़ी फसलों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। घना कोहरा के चलते हाइवे पर तेज रफ्तार वाहनों की गति थम सी गई। सुबह से सूर्य भगवान के दर्शन न होने से बढ़ती ठिठुरन के चलते लोगों ने अलाव का सहारा लिया।

मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान के आसमान पर बने चक्रवात असर मध्‍यप्रदेश में दिखाई दे रहा है। यही कारण है कि हवा का रुख उत्तर की तरफ हो रहा है। मध्यप्रदेश में रात का तापमान तो बढ़ा है, लेकिन दिन के तापमान में गिरावट आई है। भोपाल में सुबह कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के मुताबिक शहर में सुबह साढ़े छह बजे जीरो विजिबिलिटी रही। घने कोहरे के चलते यातायात भी पूरी तरह प्रभावित। लोगों को दिन भी अपने वाहनों की लाइटें जलानी पड़ी, किन्‍तु तफ्तार पर तो ब्रेक लग था।

वहीं स्कूल जाने वाले बच्चे वाहनों के इंतजार में सड़कों पर कांपते हुए नजर आए।पिछले दो -तीन दिनों से तापमान में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई, लेकिन सोमवार सुबह से ही मौसम ने करवट ली और हाड़ कंपाने वाली सर्दी महसूस की गई। मौसम के बदलाव के बारे में किसानों का कहना है कि कोहरा के साथ गिरने वाली ओस की बूंदे कुछ फसलों के लिए लाभदायक साबित होंगी,वहीं तेज गति से चलने वाली शीतलहर फसलों को प्रतिकूल रुप से प्रभावित कर सकती है। कपकपाने वाली सर्दी ने लोगों की दिनचर्या को प्रभावित किया और काम पर जाने की जगह लोग अलाव का सहारा लेने को मजबूर नजर आए है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper