मप्र में अगले महीने ग्रामीण डाक सेवकों की भर्ती

भोपाल: मप्र डाक मंडल अगले महीने ग्रामीण डाक सेवकों की भर्ती पूरी कर लेगा। मप्र डाक मंडल को 2411 नए ग्रामीण डाक सेवक मिल जाएंगे। ऑनलाइन रिजल्ट घोषित न होने से बीते डेढ़ साल से ग्रामीण डाक सेवकों की भर्ती नहीं हो पा रही थी। यह रिजल्ट अगले महीने आएगा। रिजल्ट घोषत होते ही ग्रामीण इलाकों में भी डाक व्यवस्था दुरुस्त हो जाएगी। भारतीय डाक विभाग ने डेढ़ साल पहले ग्रामीण डाक सेवकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी। मध्यप्रदेश के कोटे में पहले करीब 800 पद थे जिसे बाद में बढ़ाकर 2411 कर दिया गया था। लेकिन तब से अब तक मप्र समेत सात राज्य भर्ती का रिजल्ट ही घोषित नहीं कर सके जिससे लाखों उम्मीदवारों में मायूसी छाई हुई थी। डाक विभाग पहली बार ऑनलाइन भर्ती कर रहा था जिसके कारण डेढ़ साल की देरी हो गई।

भारतीय डाक विभाग ने डेढ़ साल पहले ग्रामीण डाक सेवकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी। भर्ती के लिए आवेदन ऑनलाइन हुए हैं। इसके लिए उम्र सीमा 18 से 40 वर्ष मांगी है। कोई भी 10वीं पास उम्मीदवार इसके लिए आवेदन कर सकता था। इसमें कोई लिखित परीक्षा नहीं होगी। चयन 10वीं में प्राप्त अंकों की मेरिट के आधार पर होगा। साथ ही न्यूनतम 3 महीने का कंप्यूटर कोर्स होना भी अनिवार्य रखा गया है। जीडीएस की अलग-अलग श्रेणी हैं। जिसमें ब्रांच पोस्ट मास्टर, मेल डिलीवर, मेल कैरियर और पैकर शामिल हैं। वेतन पे स्केल और वर्किंग समय के हिसाब से 10 हजार रुपए से 25 हजार रुपए मासिक तक है।

ग्रामीण डाक सेवकों की नियुक्ति केवल ग्रामीण इलाकों में ही होगी। उम्मीदवार जहां का स्थानीय निवासी है उसी मुख्य पोस्ट ऑफिस के अंतर्गत उसे रखा जाएगा। बाकी राज्यों की मेरिट और रिजल्ट की तुलनात्मक स्थिति के हिसाब से मप्र की कटऑफ भी 90 प्रतिशत अंकों से ऊपर जाने की संभावना है। इस बारे में हेडर्क्वाटर व मेल एंड मार्केटिंग डाक परिमंडल मप्र के डायरेक्टर डॉ. एस. शिवराम का कहना है कि प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में अगले महीने डाक सेवकों की भर्ती प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। पहली बार ऑनलाइन भर्ती हो रही थी इसलिए देरी हो गई। अब हमारी तैयारी पूरी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper