ममता बैनर्जी ने पार की सारी हदें, कहा-मोदी को थप्पड़ मारने को दिल करता है

कोटुलपुर: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जबरन वसूली करने वाला टोलाबाज करार देते हुए कहा है कि उन्होंने नोटबंदी के जरिए बलपूर्वक लोगों का धन हथिया लिया। मंगलवार को पुरुलिया में अपनी सरकार की उपलब्धियों का बखान करते हुए ममता ने कहा कि उनका पीएम मोदी को थप्पड़ मारने का मन करता है, मैंने ऐसा झूठा प्रधानमंत्री नहीं देखा, जब चुनाव आते हैं तो राम नाम जपने लगते हैं। मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोलते हुए ममता बनर्जी ने कहा, 5 साल पहले उन्होंने अच्छे दिनों की बात की थी, लेकिन बाद में नोटबंदी कर दी, वह संविधान भी बदल देंगे। ममता ने कहा, मैं बीजेपी के नारों में विश्वास नहीं रखती, पैसा मेरे लिए कोई मायने नहीं रखता. लेकिन जब नरेंद्र मोदी बंगाल आकर कहते हैं कि टीएमसी लुटेरों से भरी पड़ी है तो मुझे उन्हें थप्पड़ मारने का मन हुआ।

इससे पहले सुश्री बनर्जी ने कल रात यहां बिशनूपुर लोकसभा सीट से तृणमूल प्रत्याशी के पक्ष में आयोजित चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए कहा, नरेंद्र मोदी यहां आते हैं और मुझे ‘टोलाबाजÓ कहते हैं, ऐसी जुर्रत। उन्होंने पूछा, हम कहते हैं कि तृणमूल कांग्रेस मंदिर, मस्जिद, चर्च के लिए खड़ें है और वह हमें ‘टोलाबाज’ कहते हैं। हम जानना चाहते हैं कि नोटबंदी के माध्यम से उन्होंने ‘टोलाबाज़; के रूप में कितना पैसा जमा किया जिसे लोगों ने कड़ी मेहनत से कमाया था।

उन्होंने कहा, अक्सर लोग मुझसे पूछते हैं कौन ज्यादा खतरनाक है तूफान या नरेंद्र मोदी। मैं हमेशा जवाब देती हूं नरेंद्र मोदी, क्योंकि वह तूफान से भी बड़ा विनाश करते हैं। सुश्री बनर्जी ने कहा, लोग हर समय मोदी से बहुत भयभीत रहते हैं। हम शांति चाहते हैं, युद्ध और विनाश नहीं। इसलिए मोदी को सत्ता से हटा दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, पिछले पांच वर्षों के दौरान कई बार वह मोदी के पास गयीं और बंगाल के लिए आर्थिक सहायता मांगी। उन्होंने मेरी मांग कभी स्वीकार नहीं की और अब स्वयं के एजेंडे को आगे बढ़ाने का अवसर को भांपते हुए वह तूफान के बाद यहां आए और एक बैठक की जिसमें मेरे शामिल होने की वह उम्मीद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उनके पास मोदी के साथ फोटो खिंचवाने का समय नहीं है। उन्होंने सवाल उठाया, जब तूफान आया तो आप कहां थे। मैं वहां मौजूद थी। जब तूफान की चुनौती थी तो आप दिल्ली में थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper