महंगाई पर चर्चा के लिए कांग्रेस ने दोनों सदनों में दिया नोटिस

नई दिल्ली: कांग्रेस ने महंगाई के मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में नोटिस दिया है और आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी पर चर्चा की मांग की है। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने नोटिस में कहा कि महंगाई की उच्च दर ने देश के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को चोट पहुंचाई है। तेल और सब्जियों की कीमतें आसमान छू रही हैं और ईंधन लगभग हर रोज नए मूल्य रिकॉर्ड तोड़ रहा है। पेट्रोल 100 रूपए से आगे बढ़ रहा है, और एलपीजी सिलेंडर की कीमत अब कीमत 900 रुपये से ज्यादा हो गई है।

“आरबीआई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर, 2021 के लिए तेल और वसा में सीपीआई(संयुक्त) मुद्रास्फीति दर सालाना आधार पर 33.50 प्रतिशत है, जबकि ईंधन और परिवहन और संचार के लिए समान संख्या क्रमश: 14.19 और 10.90 प्रतिशत है।” उन्होंने कहा, “मुद्रास्फीति की यह उच्च दर न केवल देश के निम्न-आय वर्ग की कमर तोड़ती है बल्कि आय वितरण में पहले से बढ़ रही असमानता को भी बढ़ाती है। इस प्रकार, मैं सदन में मुद्रास्फीति के इस जरूरी मुद्दे को उठाना चाहता हूं।”

कांग्रेस सांसद के.सी. वेणुगोपाल ने “आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों” पर चर्चा करने के लिए नियम 267 के तहत राज्यसभा में कामकाज के निलंबन के लिए इसी तरह का नोटिस दिया है। कांग्रेस मुद्रास्फीति की उच्च दरों पर सरकार से सवाल करती रही है और दो सप्ताह तक देशव्यापी विरोध प्रदर्शन किया है। पार्टी 12 दिसंबर को जयपुर में एक रैली भी करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper