महंगी लाइफस्टाइल के चक्कर में नाबालिग ने दादा जी के बैंक अकाउंट से उड़ा दिए 15 लाख रुपए, फिर इस तरह हुआ खुलासा

आगरा: मंहगी लाइफस्टाइक के चक्कर में एक 17 वर्षीय लाबालिग ने अपने दादाजी के बैंक अकाउंट से 15 लाख रुपए निकाल लिए और उन्हें इस बात की भनक तक नहीं लगी यह काम उनता पोता कर रहा है। उसने अपने ई-वॉलेट अकाउंट पेटीएम और मोबिक्विक पर ये सारे पैसे ट्रांसफर कर लिए। आगरा के एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि 80 वर्षीय एक रिटायर्ड एयर फोर्स ऑफिसर राजा राम ने शिकायत दर्ज कराई कि उनके बैंक अकाउंट से 15 लाख रुपयों का अवैध ट्रांजैक्शन हुआ है।

ये ट्रांजैक्शन मार्च से लेकर अगस्त के महीने में हुआ है। शाहगंज थाने में आईपीसी की धारा 420 के तहत इस संबंध में एक केस भी दर्ज किया गया। पीड़िता ने बताया कि इस ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए ना ही उसके पास कोई कॉल आई और ना ही कोई ओटीपी मिला। इस शिकायत के बाद इसकी जांच साइबर सेल को दे दिया गया।

जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि पेटीएम और मोबिक्विक के ई-वॉलेट में ये पैसे ट्रांसफर किए गए हैं। ये ई-वॉलेट फेक सिम कार्ड के जरिए बनाए गए थे। साइबर सेल के मुताबिक ये पैसे उसके पोते ने निकाले थे। वह थोड़े-थोड़े मात्रा में लगातार अकाउंट से पैसे निकाल रहा था। वह दादाजी के फोन से अलर्ट मैसेज व ओटीपी के मैसेज बाद में फौरन डिलीट कर देता था।

इस काम में उसका दोस्त 21 वर्षीय मोहित सोलंकी साथ दे रहा था जो इन सबका मास्टरमाइंड था। इसमें दो और शख्स मिले हुए थे। ये सभी मिलकर शराब और मोबाइल फोन पर वे सारे पैसे खर्च कर रहे थे। पीड़ित के घर से डबल बेड, डबल डोर रेफ्रिजरेटर, एलईडी टीवी, हाई क्वालिटी स्पीकर जैसे सामान बरामद हुए। बुजुर्ग के पोते को भी हिरासत में ले लिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper