महराजगंज गोसदन में 100 गायों की मौत

गोरखपुर: गोरखपुर झूम रहा है। वहाँ महोत्सव हो रहा है। नाच गान के रसिया महोतसव में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। तरह तरह के रंग हैं इस महोत्सव में। सरकार से लेकर नेता और ठग गिरहकट से लेकर आम लोग महोत्सव की शोभा बढ़ाने से पीछे नहीं हैट रहे। उधर गोरखपुर से सटे महराजगंज से गो माता की मौत की खबरे मिल रही है। बड़ा विचित्र नजारा है। एक तरफ गो माता की लगातार हो रही मौत से महराजगंज का सरकारी गो शाला मातम मना रहा है इधर गोरखपुर नौटंकी में मदमस्त है।

महाराजगंज से मिल रही खबर के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृहनगर गोरखपुर से सटे महाराजगंज में एक सरकारी गौशाला में कम से कम 100 गायों की रहस्यमय मौत की खबर है।गायों की यह मौत कैसे हुयी है इसकी पूरी जानकारी अभी नहीं मिल रही है लेकिन बताया जा रहा है कि खुले में रहने की वजह से ठंढ से ये मौत हुयी है।

खबरों के मुताबिक महराजगंज का गोसदन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है। यह गोसदन करीब 400 एकड़ में फैला है। जानकारी के अनुसार कुछ महीने पहले तक यहां करीब 350 गायें थीं, और हाल ही में यहां करीब डेढ़ सौ गायें गोरखपुर से लाकर रखी गई हैं। इन गायों में ज़्यादातर बीमार और बूढ़ी गायें भी हैं। हालांकि इस गोसदन की क्षमता 250 गाय की है, ऐसे में ज़्यादातर गायों को इस भीषण सर्दी में खुले आकाश में ही छोड़ दिया गया।उसकी देखभाल भी ठीक से नहीं की गयी। खबर यह भी मिल रही है कि गायों की मौत की खबर को छिपाया जा रहा है और रात के अंधेरे में जेसीबी मशीनों से गायों के शव ज़मीन में दफनाए जा रहे हैं। इस मामले में न तो गौशाला प्रबंधक और न ही किसी अधिकारी के पास कोई जवाब है।

ये पहली बार नहीं है जब गौरक्षा की बात करने वाली भाजपा के नेताओं के राज में ही गायों की मौत हुई हो। इससे पहले भी चंडीगढ़ में एक भाजपा नेता की गौशाला में 100 से ज़्यादा गायों की मौत हो गई थी। भाजपा शासित राजस्थान में भी सरकारी गौशालाओं में लापरवाही के कारण गायों की मौत के मामले सामने आते रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper