महागठबंधन से जुदा हुई यूपी की निषाद पार्टी ,कांग्रेस के साथ गठबंधन की सम्भावना बढ़ी

दिल्ली ब्यूरो: यूपी में महागठबंधन को बड़ा झटका लगा है। सूबे की निषाद पार्टी सपा-बसपा रालोद के गठबंधन से अलग हो गई है। निषाद पार्टी ने गठबंधन पर आरोप लगाया है कि गठबंधन के नेताओं ने निषाद पार्टी को कोई सीट नहीं दिया है लिहाजा अब वह गठबंधन के साथ नहीं रहेगी। माना जा रहा है कि निषाद पार्टी कांग्रेस के साथ गठबंधन करेगी। निषाद पार्टी के चीफ संजय निषाद ने कहा कि, हमारी पार्टी को सीट देने की घोषणा की गई थी , लेकिन गठबंधन में एक भी सीट नहीं मिली है। हम ‘गठबंधन’ के साथ नहीं हैं।

बेहद खतरनाक है मोदी सरकार का वन कानून का नया प्रस्ताव

मीडिया से बात करते हुए संजय निषाद ने कहा कि अखिलेश यादव ने कहा था कि वह हमारी पार्टी के लिए सीटों की घोषणा करेंगे। लेकिन उन्होंने पोस्टर / पत्र या किसी पर भी हमारा नाम नहीं रखा। जिसके चलते मेरी पार्टी के कोर कमेटी के कार्यकर्ता और अधिकारी चिंतित हैं। इसलिए निषाद पार्टी ने आज फैसला लिया है कि हम ‘गठबंधन’ के साथ नहीं हैं, हम स्वतंत्र हैं, स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ सकते हैं और अन्य विकल्पों की भी तलाश कर सकते हैं। पार्टी अब स्वतंत्र है।

बता दें कि यूपी में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में निषाद पार्टी और जनवादी पार्टी भी शामिल हैं। लेकिन अखिलेश यादव की ओऱ से अभी तक इस गठबंधन के फार्मूले पर पत्ते नहीं खोले गए हैं। हालांकि संकेत मिल रहे थे कि सपा एक सीट अपने सिंबल तथा दूसरी सीट निषाद के बैनर तले लड़ने के लिए छोड़ सकती है। आपको बताते चले कि, 2018 में हुए उप चुनाव में इसी दल के साथ गठबंधन कर अखिलेश यादव ने गोरखपुर की सीट भाजपा के हाथ से छीन ली थी।

चुनाव नहीं लड़ पाएंगे हार्दिक पटेल, कन्हैया कुमार पर लगा आचार संहिता उलंघन का आरोप

ऐसा कहा जा रहा है कि अगर अखिलेश यादव को पूर्वी उत्तर प्रदेश में अधिक से अधिक सीटें जीतनी है तो इन छोटे दलों के साथ तालमेल बनाकर चलना ही पड़ेगा। पूर्वांचल में की लगभग 25 लोकसभा सीटों पर निषाद मतदाताओं की अच्छी पैठ मानी जाती है। यूपी की वाराणसी और गोरखपुर लोकसभा सीट पर निषाद मतदाता सबसे ज्यादा संख्या में हैं। इसी के चलते समाजवादी पार्टी ने गोरखपुर में प्रवीण निषाद को टिकट दिया और जीत दर्ज की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper